अमेरिका, जापान समेत 10 देश यूपी में 7000 करोड़ करेंगे निवेश

0
447
  • इन देशों ने दिया 50 निवेश प्रस्‍ताव
  • भारतीय इकाइयां भी करेंगी 6000 करोड़ का निवेश

लखनऊ : मुख्‍यमंत्री ने बताया कि नए निवेश-प्रस्तावों, विशेष रूप से ऐसे निवेशक जो, विदेशों से अपनी इकाइयां हटा कर यहां स्थापित करना चाहते हैं, ऐसे निवेशकों की सहायता के लिए एक समर्पित हेल्पडेस्क स्थापित की गई है। इसके परिणामस्वरूप लगभग 10 देशों से 7,000 करोड़ रुपये के 50 से अधिक निवेश-प्रस्ताव प्राप्त हुए हैं। इनमें जापान, अमेरिका, ब्रिटेन, कनाडा, जर्मनी, दक्षिण कोरिया आदि के निवेशक सम्मिलित हैं। लगभग 6,000 करोड़ रुपये के निवेश- प्रस्ताव भारत के निवेशकों से भी प्राप्त हुए हैं।

भारत सरकार के ‘आत्मनिर्भर पैकेज’ के अन्तर्गत प्रदेश सरकार द्वारा बैंकों से लगातार अनुश्रवण कर पूर्व से संचालित इकाइयों को 10,400 करोड़ रुपये का अतिरिक्त ऋण स्वीकृत एवं वितरित कराया जा चुका है। इन इकाइयों को 15,000 करोड़ रुपये के ऋण वितरण का लक्ष्य है। बैंकों से लगातार अनुश्रवण कर प्रयास किया रहा है कि अगले एक महीने में यह लक्ष्य पूरा कर लिया जाए।

बैंकों से ऐसे उद्यमी संस्थानों की भी सूची प्राप्त की जा रही है, जिन्होंने बैंकों से प्राप्त सूचना के अनुसार ऋण प्राप्त नहीं किया है, ऐसी इकाइयों से सम्पर्क कर प्रयास कराया जाएगा कि प्रदेश में अधिक से अधिक इकाइयों को ऋण की सुविधा मिले। बैंकों द्वारा अभी तक विभिन्न ऑनलाइन कैम्पों के माध्यम से लगभग 3 लाख 70 हजार एमएसएमई इकाइयों को 13,382 करोड़ रुपये के ऋण उपलब्ध कराए गए हैं।

कम से कम 20 लाख इकाइयों को लगभग 80,000 करोड़ रुपए के ऋण वितरित किए जाने का लक्ष्य है। इससे बड़ी संख्या में प्रदेश में नए उद्योगों की स्थापना होगी, जिससे प्रदेश की आर्थिक प्रगति के साथ-साथ रोजगार के नये अवसर पैदा होंगे।

पूर्व से विद्यमान इकाइयों को कोरोना कालखंड में आ रही समस्याओं तथा संचालन में आ रही कठिनाइयों का निस्तारण करने के लिए सरकार द्वारा ‘एमएसएमई साथी एप’ संचालित किया गया है। इसके अन्तर्गत विभिन्न राजकीय विभागों से लंबित भुगतान, जीएसटी के लम्बित भुगतान , विभिन्न बैंकों सहित लम्बित ऋण के प्रार्थना -पत्रों इत्यादि एमएसएमई की सभी समस्याओं को दूर करने के लिए इकाइयों की मदद कराई जा रही है।