अनंदिता कर रही हैं अपना बॉलीवुड प्रोडक्‍शन डेब्‍यू

अभिनेत्री

: फिल्म एक मनी बेस्ड गेम शो और एक रईस लड़के की कहानी पर आधारित है : मुंबई (न्‍यूज हेल्‍पलाइन) : कोलकाता की अनंदिता दासगुप्ता, जो पहले अपनी बंगाली फिल्म ‘बांध’ में  सौमित्रा चटर्जी, खराज मुखर्जी, देबबुत घोष जैसे  बंगाली फिल्म इंडस्ट्री के बड़े नाम के साथ काम कर चुकी हैं, बॉलीवुड का रुख कर रही हैं। यहाँ पर अपनी कला का जौहर दिखाने की तमन्‍ना लेकर आई हैं।

उन्होंने अपना पहला हिंदी प्रोजेक्ट ‘आम पब्लिक एंटरटेनमेंट’ बैनर तले शुरू भी कर दिया है। फिल्म की शूटिंग ख़तम हो चुकी है। फिल्‍म के पोस्ट-प्रोडक्शन का काम चल रहा है। अनंदिता इस बात में यकीन रखती हैं कि फिल्म-मेकिंग एक आर्ट है, जिसमें आप एक कहानी ऐसे ढंग से बताते हैं कि ऑडियंस को समझ में आये।

अनंदिता अपनी फिल्म की कहानियों को एक खास अंदाज में कहती हैं, जिसमें एक कसी हुई कहानी, शानदार डायलॉग और मैसेज से भरपूर पटकथा पर ध्यान दिया जाता है। आनंदिता ने इस फिल्‍म में भी कुछ ऐसा ही करने का प्रयास किया है। इसमें बांग्‍ला फिल्‍मों का अनुभव उनके काम आया है।

यह फिल्म एक मनी बेस्ड गेम शो और एक रईस लड़के की कहानी पर आधारित है, जो पैसे में बहुत यकीन रखता है। उसके लिए पैसा ही सब कुछ है, लेकिन जैसे-जैसे कहानी आगे बढती हैं, बहुत सारी चीजें ऐसी होती हैं, जो मजाकिया हैं। साथ में कहीं न कहीं आप के दिल को सोचने को भी मजबूर करती हैं। परत-दर-परत कहानी खुलती है और हमें यकीन दिलाती है कि पैसे से कही जायदा जरूरी ज़िन्दगी और उससे जुड़े जज़्बात हैं।

कहानी में मैसेज बहुत साफ़ है कि ज़िन्दगी अनमोल हैं, और इसे हमें दिल खोल कर जीना चाहिए। इस पैसे की पागल रेस से दूर रहना चाहिए। हम सभी इस दुनिया में एक जैसे आये हैं, और ठीक वैसे ही यहाँ से वापस जाने वाले हैं। पर अगर इस जीवन और मृत्यु के बीच कुछ सबसे ज़्यादा ज़रूरी है तो वो है हम से जुड़े लोग और उनसे जुड़े जज़्बात।

अनंदिता की कहानी में एक अच्छी रफ़्तार हैं, जो ऑडियंस का ध्यान बनाये रखती है। फिल्म की कहानी सभी वर्ग को ध्‍यान में रखकर बनाई गई है, ना कि किसी खास तबके या वर्ग के लिए। कहानी में काफी कॉमेडी हैं, और इसका स्क्रीन-प्ले भी बहुत शानदार है। फिल्म की कहानी एक बड़े शहर में कही गई हैं, ताकि फिल्म के किरदार और सिचुएशन रीयलिस्टिक लगे।