आत्महत्या के लिए रेलवे लाइन पर लेटे 7 लोगों को आरपीएफ ने बचाकर घर पहुंचाया,गृहक्लेश से क्षुब्ध होकर पत्नी और 5 बच्चों संग आत्महत्या करने पहुंचा था एक व्यक्ति

0
21

एक परिवार के 7 लोगों को आरपीएफ जवान ने आत्महत्या से बचाया, जवान की हो रही प्रशंसा : चंदौली : डीडीयू जंक्शन स्टेशन आरपीएफ पोस्ट पर तैनात एक जवान द्वारा रविवार की सायं गृहक्लेश से क्षुब्ध होकर आत्महत्या का प्रयास कर रहे एक ही परिवार के 7 लोगों को बचा लिये जाने की चर्चा लोगों के जुबान पर है। लोग उक्त आरपीएफ जवान की तारीफ करते नहीं थक रहे हैं।

जानकारी के अनुसार रविवार की सांय करीब 6 बजे गाड़ी संख्या सीआरपीएफ स्पेशल अप पावर नंबर 30446 डीडीयू जंक्शन के प्लेटफॉर्म नम्बर 07 से खुलकर गंतव्य की ओर जा रही थी।

उक्त ट्रेन के आगे डीडीयू एवम् जीनाथपुर के मध्य किलोमीटर संख्या 674/25 के पास एक व्यक्ति अपने पत्नी एवम् 05 बच्चों को लेकर आत्महत्या करने के उद्देश्य से रेलवे लाइन के मध्य लेट गया।

तभी वहां बीट ड्यूटी में तैनात स्टाफ आरक्षी आर.आर.के सिंह ने करीब 50 मीटर दूर से लाइन पर हलचल देखा। जिसके बाद वह दौड़कर वहां पहुंचे और तुरंत उक्त व्यक्ति एवम् उसके परिवार को रेलवे लाइन से हटाया।

तत्पश्चात ट्रेन सुरक्षित गंतव्य को रवाना हुई। जब सपरिवार आत्महत्या करने का कारण जानना चाहा तो वे लोग बताए कि पति-पत्नि और घरेलू विवाद के चलते यह कदम उठाया है। दोनों पति-पत्नी अपने साथ 5 बच्चे जिनकी उम्र लगभग 4 वर्ष से 12 वर्ष के बीच है।

दोनों पति पत्नी को समझाया गया। उक्त परिवार को हिदायत दी गई कि भविष्य में ऐसा कोई कदम नहीं उठाओगे। बाद उच्च अधिकारी को सूचना देते हुए करीब 200 मीटर दूर उनके घर समझा-बुझाकर पहुंचाया गया।

आज पुन वरीय मण्डल सुरक्षा आयुक्त डीडीयू आशीष मिश्रा के निर्देश पर महिला उपनिरीक्षक अर्चना कुमारी मीणा अन्य बल सदस्य के साथ उक्त पीड़ित परिवार के घर पर पहुंचकर उनलोगो का काउंसलिंग किया एवम् समझाया बुझाया।

उन्हें बताया गया कि यह कानूनन जुर्म है तथा उन्हें हिदायत दी गयी। जिसके उपरान्त उन लोगो द्वारा अपनी गलती का एहसास हुआ तथा रेसुब द्वारा समय रहते अपनी तथा अपने परिवार की जान बचाने हेतु धन्यवाद दिया। इस संबंध में स्थानीय थाने में भी जानकारी दी गयी है।