”भाजपा राज में विकास में सर्वाधिक अवरोध पैदा हुआ है”

ex cm

: पूर्व मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव ने लगाया आरोप : लखनऊ : समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा राज में विकास में सर्वाधिक अवरोध पैदा हुआ है। केंद्र हो या राज्य सरकार, दोनों ही जनहित की एक भी योजना लागू नहीं कर सकी हैं। योजना के नाम पर सिर्फ बयान, उद्घाटन और विज्ञापनों के ही दर्शन हुए हैं। अब तक भाजपा सरकारों ने सिर्फ एक ही काम किया है कि समाजवादी सरकार के समय की गरीबों, किसानों, महिलाओ, नौजवानों, छात्राओं को लाभ देने वाली योजनाएं या तो बंद कर दी हैं या फिर उनका बजट रोक दिया है। 

श्री यादव ने कहा कि प्रधानमंत्री अक्सर कहते हैं कि गति से प्रगति है, लेकिन जिस भाजपा सरकार की कोई गति ही नहीं है, उससे प्रगति की आशा कैसे की जा सकती है? विकास गति का दूसरा नाम है, लेकिन भाजपा ने तो विकास के हर काम को रोक दिया है। इसलिए देश अंधेरे में है। जैसे बच्चे खेलते-खेलते अचानक (स्टेचू बोलकर) यथास्थिति में एक दूसरे को खड़ा कर देते हैं, वही हाल इस सरकार का है। केंद्र सरकार के 5 बजट और राज्य सरकार के 2 बजटों के बाबजूद देश की आर्थिक स्थिति बिगड़ गयी है। प्रगति के हर मानक पर भारत देश पिछड़ा हुआ है।

उन्‍होंने कहा कि विडंबना है कि भाजपा नेतृत्व ने देश में असहिष्णुता के साथ बदले की भावना का विस्तार कर प्रशासनिक व्यवस्था को छिन्न-भिन्न किया है। विरोध की हर आवाज को कुचला जा रहा है। इलाहाबाद में छात्रों की गिरफ्तारी फर्जी मुकदमे लगाकर की जा रही है। पीसीएस मेन्स 2017  पर भाजपा सरकार की मनमानी की पराकाष्ठा है। विरोध की आवाज को कुचलकर इलाहाबाद विश्वविद्यालय छात्रसंघ की पूर्व अध्यक्ष सुश्री ऋचा सिंह को फर्जी केस में फंसाकर जेल भेजना अलोकतांत्रिक है।

निर्दोषों का एनकाउटंर हो रहा है। अल्पसंख्यक दहशत में हैं, बेकारी से परेशान नौजवानों की जिंदगी अवसादग्रस्त होती जा रही है। किसान आत्महत्या कर रहे हैं। अब दिलासा दे रहे हैं कि वे किसानों की आमदनी वर्ष 2022 तक दुगुनी कर देगें। जनता तो सन् 2019 में ही भाजपा का हिसाब-किताब बराबर करने को तैयार बैठी है।