योगी सरकार का बड़ा फैसला, तीन महीने तक बंद रहेंगी टेनरियां

0
4050
फेरबदल

नरेंद्र श्रीवास्‍तव

: कुंभ में श्रद्धालुओं को स्‍वच्‍छ जल उपलब्‍ध कराने के लिए हुआ निर्णय : लखनऊ : कुम्भ में साधु संतों और अन्य श्रद्धालुओं को गंगा का निर्मल और स्वच्छ जल उपलब्ध कराने के लिये राज्य सरकार ने आगामी 15 दिसम्बर से तीन महीने तक कानपुर और उन्नाव की टेनरियों को बन्द करने का निर्णय लिया है।

इलाहाबाद में आगामी 15 जनवरी से 04 फरवरी तक कुम्भ मेला आयोजित है। योगी आदित्यनाथ सरकार इस मेले को ठीक-ठाक सम्पन्न कराने के लिये युद्धस्तर पर तैयारियों में जुटी है। इसी के तहत गंगा के प्रदूषण में कमी लाने के लिये 15 दिसम्बर से 15 मार्च तक टेनरियों को बन्द कराने का निर्णय लिया गया है।

टेनरियों से निकलने वाले कचड़े से गंगा का प्रदूषण काफी बढ़ जाता है। कानपुर के जाजमऊ इलाके में तो गंगा का जल प्रदूषण की वजह से अक्सर काला दिखता है। कानपुर के जाजमऊ और उससे सटे उन्नाव में करीब पचास छोटी बडी टेनरियां हैं। गंगा किनारे बसे कानपुर और उन्नाव को चमड़ा उद्योग के केन्द्र के रूप में भी जाना जाता है।

राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के सदस्य सचिव आशीष तिवारी ने बताया कि कुम्भ में श्रद्धालुओं को हर हाल में गंगा का स्वच्छ और अविरल जल उपलब्ध कराया जायेगा और इसी के तहत 15 दिसम्बर से तीन महीने तक टेनरियों को बन्द कराने का निर्णय लिया गया है।

श्री तिवारी ने बताया कि उच्चस्तरीय बैठक में लिये गये इस निर्णय का हर हाल में पालन कराया जायेगा। कानपुर के सेन्ट्रल ट्रीटमेंट प्लान्ट को 15 दिसम्बर से पहले दुरूस्त कर लेने के लिये 17 करोड़ रूपये अवमुक्त कर दिये गये हैं।

उधर, टेनरियों को तीन महीने बन्द करने के निर्णय को लेकर राजनीतिक गहमागहमी शुरू हो गयी है। भारतीय जनता पार्टी ने इस निर्णय को देश की संस्कृति का हिस्सा बताते हुये स्वागत किया है, जबकि समाजवादी पार्टी का कहना है कि इस फैसले से करीब 10 लाख लोगों के लिये रोजी रोटी की समस्या पैदा हो जायेगी।

सपा के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल ने कहा कि गंगा निर्मल और स्वच्छ हो। इस मकसद के लिये हजारों करोड रूपये खर्च कर देने के बावजूद गंगा मैली ही है। उसका जल स्वच्छ करने के बजाय सरकार इसमें भी राजनीति कर रही है। टेनरियों को तीन महीने बन्द करने का निर्णय लेकर अनावश्यक विवाद पैदा करना चाहती है। टेनरियों को बन्द कराने के बजाय कोई और रास्ता निकालना चाहिये।

इससे इतर, भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता मनीष शुक्ला कहते हैं कि देश विदेश से आने वाले करोड़ों श्रद्धालुओं को स्वच्छ और निर्मल जल उपल्ब्ध कराने के लिये राज्य सरकार कृतसंकल्प है। सरकार की प्राथमिकता में श्रद्धालु हैं। इसलिये सरकार का यह निर्णय स्वागतयोग्य है।

लेखक नरेंद्र श्रीवास्‍तव उत्‍तर प्रदेश के जानेमाने वरिष्‍ठ पत्रकार हैं.