शशिकांत की इसी खबर से भड़क गया भोजपुरी अभिनेता निरहुआ

tucha

: जानिये निरहुआ को कितना होने जा रहा है बार्डर से नुकसान : मुंबई : भोजपुरी सुपरस्टार दिनेश लाल यादव निरहुआ की फिल्म बार्डर काफी प्रचार प्रसार के साथ इस शुक्रवार को बिहार, झारखंड, मुंबई और उत्तर प्रदेश में रिलीज हुयी है। इस फिल्म के लिये निरहुआ ने काफी प्रचार प्रसार किया था। गांव-गांव में जाकर क्रिकेट खेला। पूरा कूनबा लेकर लंबे समय तक बिहार में डंटे रहे, मगर फिर भी उनकी यह फिल्म अपनी लागत निकालती नहीं दिख रही है।

इस फिल्म को बिहार में बायर नहीं मिले तो खुद निरहुआ ने इस फिल्म को रिलीज किया और निरहुआ इंटरटेनमेंट का बिहार और झारखंड में डिस्‍ट्रीब्‍यूशन आफिस तक खोल दिया। ईद पर बार्डर को बंपर बिजनेस मिला। मगर फिर भी यह फिल्म अपनी लागत निकालती नहीं दिख रही है। ट्रेंड के जानकारों की माने तो लगभग ढाई करोड़ रुपये में बनी यह फिल्म बार्डर बिहार में 60 से 75 लाख रुपये बिजनेस कर सकती है।

इसे भी पढ़ें : निरहुआ ने पत्रकार को दी गाली और जान से मारने की धमकी, सुनें आडियो 

निरहुआ की फिल्में औसतन बिहार और झारखंड में 40 से 45 लाख का बिजनेस करती हैं, मगर बार्डर को ईद का लाभ मिला और इसका कलेक्शन बढ़ा है। अगले सप्ताह कोई बड़ी भोजपुरी फिल्म रिलीज नहीं है, इसलिये बार्डर को इसका भी लाभ मिलेगा तथा यह फिल्म बिहार और झारखंड में 60 से 75 लाख का बिजनेस कर सकती है। इसी तरह यूपी में बार्डर का 25 लाख का बिजनेस हो सकता है। मुंबई में भी इस फिल्म को 30 से 35 लाख रुपये का बिजनेस होने की उम्मीद ट्रेंड के जानकार कर रहे हैं।

पंजाब, नेपाल और बंगाल से 15 लाख रुपये के बिजनेस का अनुमान है यानी कुल मिलाकर निरहुआ की फिल्म बार्डर का थियेटर से बिजनेस होगा एक करोड़ चालीस लाख रुपये या एक करोड़ तीस लाख रुपये के आसपास। निरहुआ अपनी फिल्मों का आडियो-वीडियो नहीं बेचते हैं और इनका खुद का यू-ट्यूब चैनल है। ऐसे में इस डील को लेकर कुछ नहीं कहा जा सकता है।

निरहुआ की फिल्मों का औसत आडियो-वीडियो सेटेलाईट का रेट मार्केट का माना जाए तो वह होता है चालीस लाख रुपये यानी कुल मिलाकर देखा जाये तो बार्डर एक करोड़ अस्सी लाख से उपर की कमाई नहीं कर पायेगी। ऐसे में निरहुआ का बार्डर से पचास से सत्तर लाख रुपये टूटना तय माना जा रहा है। ट्रेड के जानकार कहते हैं इस फिल्म का पैसा टूटने से निरहुआ सहित दूसरे सुपर स्टारों को भी प्रोड्यूसरों, डिस्ट्रीब्‍यूटरों तथा एक्जीवीटरों का दर्द पता चलेगा।

फिल्‍म पत्रकार शशिकांत सिंह के एफबी वाल से साभार.