भगवा गमछा ओढ़े पुलिस के नाम पर अवैध वसूली करने वाला गिरफ्तार, 4 दिन पूर्व अवैध वसूली का ऑडियो हुआ था वायरल

पुलिस की अवैध वसूली का ऑडियो वायरल करने वाला चढ़ा मुगलसराय कोतवाली पुलिस के हत्थे : चंदौली : जनपद में गांजा,भाग की दुकानों से अवैध वसूली का ऑडियो वायरल करने के मामले में जांच कर रही मुगलसराय कोतवाली पुलिस ने एक व्यक्ति को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। पुलिस ने उस मोबाइल को भी बरामद करने का दावा किया गया है जिससे भांग दुकानदार से वार्ता कर सीओ और क्राइम ब्रांच को पैसे देने की बात करके अपने लिए भी रुपये की मांग की थी।

विदित हो कि चार दिन पूर्व सोशल मीडिया पर गांजा-भांग की दुकानों से पुलिस की अवैध लिस्ट व ऑडियो क्लिप वायरल हुआ था। जिसके बाद यूपी के एक पुलिस अधिकारी ने ट्वीट कर डीजीपी व एडीजी वाराणसी से पूरे मामलें के जांच की मांग की थी।

उक्त ऑडियो क्लिप में सीओ व क्राइम ब्रांच को पैसे देने की बात ही किसी अमन नामक व्यक्ति का नाम भी लिया गया था। इसकी जांच कर रही मुगलसराय कोतवाली पुलिस ने बीती सायं 7:15 बजे डांडी ताल स्थित एम्बिशन कॉलेज के पास से मुखबिर की सूचना पर गिरफ्तार कर उसके पास से वह मोबाइल भी बरामद कर लिया ।

जिससे भांग दुकानदारों को कॉल करके अवैध रुपये के वसूली की मांग पुलिस का भय दिखाकर की जा रही थी। पुलिस उसे कोतवाली ले आयी जहां पूछताछ के दौरान विजय कुमार पटेल पुत्र स्व भग्गू पटेल निवासी भोजपुर,पड़ाव जनपद चंदौली ने बताया कि गांजा, भांग व अन्य अवैध कार्य में संलिप्त दुकानदारों से पुलिस का भय से आसानी से पैसे मिल जाते हैं।

इसलिए मैं उनलोगों से फोनकर के वसूली कर लेता हूँ और वे लोग किसी से शिकायत भी नहीं करते। गिरफ्तार में आये युवक के संबंध में स्थानीय कोतवाली में आयोजित एक प्रेस वार्ता में सीओ सदर कुंवर प्रभात सिंह ने बताया कि यह व्यक्ति पुलिस के नाम पर अवैध वसूली में संलिप्त है।

इससे पुलिस की छवि खराब हो रही है। हालांकि इसके साथ कुछ और भी लोग लगे हुये हैं जो फर्जी वसूली की लिस्ट वायरल कर पुलिस को बदनाम करने की साजिश में लगे हुये हैं। उनके विरुद्ध भी जांच चल रहा है। जल्द ही उसका भी खुलासा कर दिया जायेगा। गिरफ्तार किए गए अभियुक्त ने भगवा गमछा ले रखा था।

जिसके बाबत उससे पूछा गया तो उसने बताया कि यह सुरक्षा कवच है। पुलिस ने उसके विरुद्ध आइपीसी की धारा 332,353 व 386 के तहत मुकदमा दर्ज कर उसे जेल भेज दिया गया है। उक्त गिरफ्तारी व बरामदगी करने वाली पुलिस टीम में एसआई सत्येंद्र विक्रम सिंह,कॉन्स्टेबल शिवराज मौर्या,सत्येंद्र कुमार यादव शामिल रहे।