पदम की फिल्‍म ‘भौजी विधाता’ रिलीज को पूरी तरह तैयार

film

मदन चौरसिया

: सामाजिक कुरूतियों और पुरूष प्रधान मानसिकता के बीच एक महिला के संघर्ष की गाथा : मुंबई : भोजपुरी फिल्‍म ‘भौजी विधाता’ के निर्देशक पदम गुरूंग ने अपनी फिल्‍म को महिलाओं के सम्‍मान व अधिकार को समर्पित बताया। उन्‍होंने मुंबई में एक इवेंट के दौरान देश में बच्चियों के साथ हो रहे दुष्‍कर्म पर चिंता जाहिर की और कहा कि महिलाएं को सशक्‍त बनाने के लिए समाज के हर एक लोगों सामने आना होगा। महिलाओं को अपने अस्तित्‍व का एहसास करना होगा। साथ ही पुरूषों को महिलाओं का सम्‍मान करना होगा, तभी ऐसी घटनाओं पर लगाम लग सकती है।

उन्‍होंने कहा कि हमने अपनी फिल्‍म ‘भौजी विधाता’ को भी कुछ इसी थीम पर बनाया है, ताकि वे अपने अधिकार व हक को जानें और समाज महिलाओं का सम्‍मान करे। पदम ने बताया कि स्‍वैग प्रोडक्‍शन प्रा. लि. के बैनर तले बनी फिल्‍म ‘भौजी विधाता’ रिलीज को पूरी तरह तैयार है और जल्‍द ही हम इसे रिलीज करेंगे। सामाजिक कुरूतियों और पुरूष प्रधान मानसिकता के बीच एक महिला की संघर्ष गाथा पर बेस्‍ड है। मुझे लगता है कि ऐसी स्‍टोरी लाइन की फिल्‍म अभी तक नहीं बनी है। हमने फिल्‍म को लीक से हटकर बनाने की कोशिश की है, जिसे यकीनन वाहवाही मिलेगी और लोग पसंद करेंगे।

पदम कहते हैं मेरे लिए यह फिल्‍म काफी अहम है और हमने इसके लिए काफी तैयारियां की थी। तब जाकर एक बेहतरीन फिल्‍म को आज हम पर्दे पर रिलीज करने के लिए तैयार हैं। इस फिल्‍म में इंटरटेंमेंट के अलावा सोशल मैसेज भी है। आप इसे हिंदी की बहुचर्चित फिल्‍म पिंक की श्रृंखला में रख सकते हैं, लेकिन दोनों की कहानी काफी अलग है। गौरतलब है कि फिल्‍म ‘भौजी विधाता’ में लीड रोल में भोजपुरी सिनेमा की फेयर लवली गर्ल ऋतु सिंह नजर आ रही हैं। उनके अलावा प्रियेश सिन्‍हा, अर्चना सिंह, शाहिद शम्‍स, दीपक सिन्हा, राहुल झा, निशा झा, कल्‍पना झा, जे पी सिंह, रिंकू भारती, सुधा झा मुख्‍य भूमिका में हैं।

फिल्‍म के निर्माता सुभाष नागर व उदित ओबरॉय और पीआरओ संजय भूषण पटियाला हैं। फिल्‍म में मशहूर प्‍लेबैक सिंगर उदित नारायण, इंदु सोनली, मनोज कुमार, आलोक कुमार और खुशबू जैन की आवाज में गाने रिकॉर्ड किये गए हैं। जबकि लिरिक्‍स और म्‍यूजिक कुमार चंद्र भूषण का है। फिल्‍म के गानों में कोरियोग्राफी खुद पदम गुरूंग ने की है। फिल्‍म के को-प्रोड्यूसर नीलम फिल्‍म्स है। डीओपी फारूक खान, ईपी रविंद्र प्रताप और आर्ट ताज महमूद का है।

वरिष्‍ठ पत्रकार मदन चौरसिया की रिपोर्ट. मदन चौरसिया मायाधर्मयुग, मायापुरी, टर्निंग इंडिया, पायनियर, दैनिक जागरणस्‍वतंत्र भारतआज, जनसंदेश टाइम्‍स जैसे संस्‍थानों में लंबे समय तक कार्यरत रहे हैं. फिल्‍म पत्रकारिता में महारत रखते हैं.