बीएचयू छात्र हत्याकांड में चीफ प्रॉक्टर समेत 6 के खिलाफ मुकदमा दर्ज

0
258
वाराणसी। बीएचयू गोली कांड में घायल युवक की मंगलवार की देर रात्रि इलाज के दौरान हुयी मौत के बाद माहौल गरमा गया है। छात्र आक्रोशित हैं। वहीं शोकाकुल बीएचयू प्रशासन ने बुधवार को शोक में बीएचयू में छुट्टी कर दी थी।

चीफ प्रॉक्टर समेत छः लोगों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज
पुलिस छावनी में तब्दील हुआ बीएचयू
 घटना के बाद मृतक छात्र के पिता की तहरीर पर लंका थाने में  चीफ प्रॉक्टर सहित 6 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। छात्रों के आक्रोश को देखते हुए बीएचयू कैंपस में जिला प्रशासन ने भारी पुलिस बल और पीएसी के जवानों की तैनाती कर दी है। बीएचयू पुलिस छावनी में तब्दील हो चुका है।
 विदित हो कि बीएचयू के बिड़ला ए होस्टल के छात्र गौरव सिंह को मंगलवार की रात्रि कुछ बदमाशों ने उस समय गोली मारकर घायल कर दिया था जब वे होस्टल के बाहर खडे होकर अपने मित्रों से वार्ता कर रहे थे। घटना के बाद हमलावर फरार हो गए थे। घायल गौरव को छात्रों ने तत्काल ट्रामा सेंटर पहुंचाया लेकिन वहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गयी। उसे तीन गोलियां लगी थी।
चीफ प्रॉक्टर रॉयना सिंह की हो सकती है गिरफ्तारी
 मृतक छात्र के पिता बीएचयू में लिपिक के पद पर कार्यरत हैं। गौरव के पिता राकेश सिंह ने चीफ प्रॉक्टर रॉयना सिंह समेत 6 लोगों के खिलाफ़ लिखित तहरीर देकर मुकदमा दर्ज कराया है। घटना के बाद से चीफ प्रॉक्टर रोयना सिंह बीएचयू नहीं पहुंची हैं। सूत्र बताते हैं कि रोयना सिंह की कभी भी इस मामले में गिरफ्तारी हो सकती है।
हत्या की योजना जिला जेल में बनी थी:सूत्र
बताया जा रहा है कि हत्या की योजना जिला जेल में बनायी गई थी। पुलिस की प्राथमिक जांच में पुलिस को सन्देह है कि बीएचयू के ही छात्र जेल में बंद पवन मिश्रा के इशारे पर हत्या हुई है। हालांकि शूटरों का अभी पुलिस को कोई सुराग हाथ नहीं लग सका है। बताया जा रहा है कि जेल में बंद बिहार के बक्सर निवासी छात्र पवन मिश्रा गुट के छात्रों से गौरव की बहस हुई थी जिसमे उनलोगों ने गौरव को देख लेने की धमकी दी थी।
चीफ प्रॉक्टर की गिरफ्तारी और कुलपति को बर्खास्त करने की मांग पर अड़े छात्र
गौरव का दाह संस्कार कर लौटे आक्रोशित छात्रों ने बुधवार अपराह्न बीएचयू गेट बंद कर दिया और धरना प्रदर्शन कर चीफ प्रॉक्टर की गिरफ्तारी के साथ ही कुलपति प्रो राकेश भटनागर को बर्खास्त करने की मांग पर अड़ गये। प्रशासन के काफी समझाने और कार्यवाही का भरोसा दिए जाने के बावजूद आंदोलित छात्र टस से मस नहीं हुये। सूचना मिलते ही बीएचयू पहुंचे जिलाधिकारी सुरेंद्र सिंह ने छात्रों को दोषियों पर कार्यवाही काफी भरोसा दिलाया लेकिन छात्र अपनी मांग पर अड़े हुए हैं।