वृंदावन में बृज रस उत्सव और हुनर हॉट का किया उद्घाटन

425 करोड़ रुपये की राशि से बृजक्षेत्र को सजाया संवारा जा रहा है। प्रदेश सरकार की यह मंशा है कि बृजक्षेत्र की पवित्रता को बनाए रखते हुए इसे देश-दुनिया तक पहुंचाया जाए। ये बातें बृजरस उत्सव और हुनर हॉट का उद्घाटन करने पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को कहीं। इसके पहले मुख्यमंत्री योगी मथुरा में संतगणों के साथ भोज में भी शामिल हुए।

बुधवार को वृंदावन में बृज तीर्थ विकास परिषद द्वारा आयोजित बृजरज उत्सव और हुनर हॉट का उद्घाटन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने किया। एक जनसभा में उन्होंने कहा कि बृजक्षेत्र के विकास के लिए प्रदेश सरकार लगातार प्रयास कर रही है। बृज तीर्थ विकास परिषद के सहयोग से यहां के तीर्थस्थलों को लगभग 425 करोड़ रुपये की लागत से संवारा जा रहा है। वृंदावन में पर्यटक सुविधा केन्द्र, गीता शोध संस्थान और ऑडीटोरियम, अन्नपूर्णा भवन का निर्माण, मथुरा में जुबली पार्क समेत बरसाना और नंदगांव में भी पर्यटकों की सुविधा के विकास कार्य किए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि इस तरह के हाट आत्मनिर्भर भारत की परिकल्पना को साकार करते हैं। साथ ही हुनर हाट में आये कई हस्तशिल्प श्रीकृष्ण के काल से जुड़े होंगे। ये हमलोगों के लिए अनमोल हैं। ये आज की पीढ़ी को भवगाव श्रीकृष्ण से जोड़ेगा।

उन्होंने कहा कि प्रतिभा जाति, मत और मजहब की मोहताज नहीं होती है। रसखान किसी जाति, मत और मजहब के मोहताज नहीं थे। वह तो भगवान श्रीकृष्ण के भक्ति में डूब गए थे। उन्होंने कहा कि कोरोना के समय मोदी जी की तरह किसी नेता ने जनता के साथ संवाद स्थापित नहीं किया। उन्होंने जीवन बचाने के साथ जीविका बचाने की भी चिंता की।
उन्होंने कहा कि बृजक्षेत्र जाति-धर्म से दूर प्रेम का संदेश देता है। यहां रचे-बसे रसखान ने भी अपने भजनों से यही संदेश दिया। उन्होंने कहा कि यमुना की अविलरता को बनाए रखने के लिए प्रदेश सरकार लगातार काम कर रही है। इसके पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मथुरा में संतगणों के साथ भोज में भी शामिल हुए।

संतों ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि ऐसा मुख्यमंत्री न हुआ है न होगा। योगी जी ने सनातन धर्म और संस्कृति को आगे बढ़ाने का जो कार्य किया है, वह आजतक किसी ने नहीं किया है।