आर्टिकल 370 और सीएए के फैसले पर कायम हैं, कायम रहेंगे : मोदी

: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 1254 करोड़ रुपये की 36 परियोजनाओं का लोकार्पण और 14 परियोजनाओं का शिलान्यास किया : पं. दीनदयाल के विचारों से प्रेरणा लेकर 21वीं सदी का भारत अंत्योदय के लिए काम कर रहा है : चंदौली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि देश आज वो निर्णय ले रहा है, जो हमेशा पीछे छोड़ दिए जाते थे। जम्मू कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने का फैसला हो या फिर नागरिकता संसोधन कानून (सीएए) लागू करने का निर्णय। वर्षों से देश को इन फैसलों का इंतजार था। देश हित में वर्षों से ये फैसले जरूरी थे। दुनिया भर के सारे दबावों के बावजूद इन फैसलों पर हम कायम हैं और कायम रहेंगे।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रविवार को पड़ाव में गन्ना विकास शोध संस्थान परिसर में बने पंडित दीनदयाल उपाध्याय स्मारक का लोकार्पण किया। इसके बाद उन्होंने 1254 करोड़ रुपये की 36 परियोजनाओं का लोकार्पण और 14 परियोजनाओं का शिलान्यास किया। इस दौरान जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि आज इस क्षेत्र में दीनदयाल की स्मृति स्थली का जुड़ना, अपने नाम ‘पड़ाव’ की सार्थकता को और सशक्त कर रहा है। ऐसा पड़ाव जहां, सेवा, त्याग और लोकहित सभी एक साथ जुड़कर एक दर्शनीय स्थल के रूप में विकसित होंगे।

पीएम मोदी ने कहा कि इस स्मृति स्थल से आने वाली पीढ़ियों को पंडित दीन दयाल के आचार और विचार की प्रेरणा मिलती रहेगी। दीन दयाल उपाध्याय ने हमें अंत्योदय का मार्ग दिखाया था। यानि जो समाज की आखिरी पंक्ति में है, उसका उदय। 21वीं सदी का भारत, इसी विचार से प्रेरणा लेते हुए अंत्योदय के लिए काम कर रहा है।

पीएम मोदी ने कहा कि इसी कड़ी में आज इस पवित्र अवसर पर वाराणसी सहित पूरे पूर्वांचल को लाभ पहुंचाने वाली 1200 करोड़ रुपये से ज्यादा की परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास किया गया है। ये तमाम प्रोजेक्ट्स बीते 5 वर्षों से काशी सहित संपूर्ण पूर्वांचल में चल रहे कायाकल्प के संकल्प का हिस्सा हैं। उन्होंने कहा कि इन वर्षों में वाराणसी जनपद में लगभग 25 हज़ार करोड़ रुपए के विकास कार्य या तो पूरे हो चुके हैं या काम चल रहा है। इन कार्यों का बहुत बड़ा लाभ, बनारस सहित पूरे पूर्वांचल को मिल रहा है।

पीएम मोदी ने कहा कि काशी सहित इस पूरे क्षेत्र में हो रहे कनेक्टिविटी के ये काम आपकी सुविधा के साथ-साथ रोज़गार निर्माण के भी बड़े साधन तैयार कर रहे हैं। विशेष तौर पर पर्यटन आधारित रोज़गार, जिसको लेकर काशी और आस-पास के क्षेत्रों में बहुत बड़ी संभावना है, उनको बल मिल रहा है। उन्होंने कहा कि कुछ दिन पहले श्रीलंका के राष्ट्रपति भी यहां आए थे। वह यहां के अद्भुत वातावरण की दिव्य अनुभूति से बहुत मंत्रमुग्ध हुए थे। आपने भी देखा होगा कि सोशल मीडिया में उन्होंने काशी के साथियों की बहुत प्रशंसा की है। काशी विश्वनाथ धाम में ऐसे तमाम कार्य तेजी से पूरे किए जा रहे हैं।

पीएम मोदी ने कहा कि बहुत ही जल्द बाबा का दिव्य प्रांगण आकर्षक और भव्य रूप में हम सभी के सामने आएगा। इसी कड़ी में आज बाबा विश्वनाथ की नगरी को ओंकारेश्वर और महाकालेश्वर से जोड़ने वाली काशी-महाकाल एक्सप्रेस को भी हरी झंडी दिखाई गई है।

पीएम मोदी ने कहा कि बीएचयू में आज जिस सुपर स्पेशिएलिटी अस्पताल का लोकार्पण हुआ है, उसका शिलान्यास तो 2016 के आखिरी में, मैंने ही किया था। सिर्फ 21 महीने में 430 बेड का ये अस्पताल बनकर काशी और पूर्वांचल के लोगों की सेवा के लिए तैयार हुआ है। उन्होंने कहा कि दीन दयाल जी कहते थे कि आत्म निर्भरता और स्वयं सहायता सभी योजनाओं के केंद्र में होनी चाहिए। उनके इन विचारों को सरकार की योजनाओं और सरकार की कार्य संस्कृति में निरंतर लाने का प्रयास किया जा रहा है।

इस दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, केंद्रीय मंत्री डा. महेन्द्र नाथ पाण्डेय, रेल राज्य मंत्री सुरेश अंगड़ी, डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य और भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह मौजूद समेत कई गणमान्य लोग मौजूद थे।