एमिटी यूनिवर्सिटी में चित्रकारों का अपमान

0
89

: चित्रकारों ने उतरवाई अपनी पेंटिंग : लखनऊ। शहर की एमिटी यूनिवर्सिटी प्रांगण में 6 से 8 मार्च आयोजित कला दर्पण चित्रकला प्रदर्शनी में बुलाये गये चित्रकारों में लखनऊ के चित्रकारों को अपमान किया गया। नाराज महिला चित्रकारों ने प्रर्दशनी के उद्धाटन के तत्काल बाद अपनी पेन्टिंग एमिटी कला दीर्घा से उतरवा कर ले गये।

जानकारी के मुताबिक लखनऊ की चित्रकार आनन्द रिचा और मीनाक्षी श्रावणी को एमिटी यूनिवर्सिटी में आयोजित चित्रकला प्रदर्शनी में भाग लेने के लिये आमत्रित किया गया। 6 मार्च को प्रर्दशनी के उद्धाटन के दिन उक्त चित्रकारों के साथ सौतेला व्यवहार आयोजकों द्वारा किया गया। इससे नाराज महिला चित्रकारों ने प्रर्दशनी के उद्धाटन के तत्काल बाद अपनी पेन्टिग एमिटी कला दीर्घा से यह कहते हुये उतरवा ली कि जहां चित्रकारों का अपमान हो और ऐसा लापरवाह प्रबंधन/आयोजक हों वहां हमें अपनी पेंटिंग नहीं लगानी है।

चित्रकार मीनाक्षी श्रावणी/आनन्द रिचा ने कहा कि प्रदर्शनी के उद्धाटन के दिन जब वह एमिटी यूनिवर्सिटी प्रांगण में प्रवेश कर रहीं थी, उस दौरान न तो बाहर गार्ड के पास मौजूद चित्रकारों की लिस्ट में उनका नाम था और न ही यूनिवर्सिटी की तरफ से छपवाई गई। पुस्तिका में उनका नाम था। जबकि उक्त पुस्तिका में देश भर से आये अन्य चित्रकारों/कलाकारों के फोटोग्राफ व नाम छपे थे, साथ ही जब सभी चित्रकारों को सर्टिफिकेट दिये गये, उस दौरान भी उन्हे नजरअंदाज किया गया। इस पर जब उन्होंने आपत्ति जताते हुये, अपनी बात कला विभाग की तुलिका साहू से कही तब तुलिका साहू का जवाब था कि लिस्ट में प्रिंटिंग मिसटेक हो गई होगी। प्रिंटिंग एवं पुस्तिका की छपवाई यूनिवर्सिटी के छात्र-छात्राओं द्वारा करवाई गई थी। जल्दी बाजी में हम इसे देख नहीं सके।