पुस्तक समाजवादी विचारों की, लोकार्पण करेंगे योगी आदित्यनाथ

PM

मनोज श्रीवास्‍तव

: 8 जुलाई को विधानसभा के सेंट्रल हाल में जुटेंगे और भाजपाई दिग्गज भी : लखनऊ। राष्ट्रपुरुष चन्द्रशेखर – संसद में दो टूक (भाग दो) का लोकार्पण 8 जुलाई 2018 को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ करेंगे। विधानसभा के सेंट्रल हाल में रविवार को दिन में साढ़े 11 बजे से प्रारम्भ होने वाले इस लोकार्पण समारोह की अध्यक्षता विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित करेंगे। 

संसदीय कार्य एवं नगर विकास मंत्री सुरेश खन्ना, श्रममंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य और समाज कल्याण मंत्री रमापति शास्त्री की उपस्थिति में होने वाले इस लोकार्पण समारोह का संयोजन करेंगे विधान परिषद सदस्य यशवंत सिंह। चंदशेखरजी स्मारक ट्रस्ट की ओर से प्रकाशित इस पुस्तक के सम्पादक हैं, वरिष्ठ पत्रकार एवं लोकतन्त्र सेनानी धीरेन्द्र नाथ श्रीवास्तव।

2012 तक सक्रिय पत्रकारिता में रहकर संवाददाता से सम्पादक तक का सफर तय करने वाले धीरेन्द्र नाथ श्रीवास्तव अब तक कुल पांच पुस्तकों का सम्पादन कर चुके हैं। उनकी पहली पुस्तक थी- राष्ट्रपुरुष चन्द्रशेखर। पूर्व प्रधानमंत्री चन्द्रशेखर के व्यक्तित्व कृत्तित्व पर आधारित इस पुस्तक का लोकार्पण समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने तत्कालीन मन्त्री रामगोविंद चौधरी, ओमप्रकाश सिंह, रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया, अरविंद सिंह गोप, विधानपरिषद सदस्य यशवंत सिंह और सांसद नीरज शेखर की उपस्थिति में किया था।

दूसरी पुस्तक – लोकबन्धु राजनारायण – विचार पथ एक – का लोकार्पण समाजवादी पार्टी के रजत जयंती सम्मेलन में हुआ। पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा, चौधरी अजित सिंह, शरद यादव, लालू प्रसाद यादव, मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और सिंचाई, लोकनिर्माण व सहकारिता मंत्री शिवपाल यादव की उपस्थिति में लोकबन्धु राजनारायण विचार पथ एक का लोकार्पण समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने किया।

तीसरी पुस्तक राष्ट्रपुरुष चन्द्रशेखर – संसद में दो टूक का लोकार्पण 17 अप्रैल 2017 को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विधानसभा के सेंट्रल हाल में किया। विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित ने इस समारोह की अध्यक्षता की।

देश के प्रथम समाजवादी प्रधानमंत्री चन्द्रशेखर के लोकसभा के भाषणों पर आधारित यह पुस्तक, चन्द्रशेखर के विचारों को जीने वाले विधान परिषद सदस्य यशवंत सिंह लोकार्पण समारोह के संयोजक, समाजवादी मन मिजाज की पहचान रखने वाले वाले धीरेन्द्र नाथ श्रीवास्तव सम्पादक और लोकार्पण करना था उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को, जो मुख्यमंत्री के रूप में वह पहली बार किसी पुस्तक का लोकार्पण कर रहे थे। इसलिए लोकार्पण समारोह पर सभी की नजरें थीं। उन लोगों की खासतौर पर थीं, जो पिछली दो पस्तकों का लोकार्पण देख चुके थे, जिसमें पुस्तक की चर्चा की जगह राजनीति और उठापटक प्रभावी रही।

इस बार स्थिति ठीक उलट थी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राष्ट्रपुरुष चन्द्रशेखर -संसद में दो टूक (भाग एक) पुस्तक का पन्ना पलट-पलट कर बांचा और तकरीबन 45 मिनट के इस समारोह में सम्पूर्ण पुस्तक की समीक्षा कर दी और कहा कि एक देश-एक कानून जैसे मसले पर चन्द्रशेखरजी की दो टूक राय मानी गयी होती तो देश के समक्ष आज कई सवाल नहीं होते। परिणामस्वरूप देश के सभी प्रमुख अखबारों और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया ने मुख्‍यमंत्री योगी के कथन को उस दिन के लीड न्यूज का स्थान दिया।

यही नहीं, इस अवसर पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पुस्तक के सम्पादक धीरेन्द्र नाथ श्रीवास्तव की भी तारीफ की और कहा कि अभिनंदन तो इनका (धीरेन्द्र नाथ श्रीवास्तव का) होना चाहिए। पिछली दो पुस्तकों का लोकर्पण करने वाले समाजवादी थे, लेकिन इस फक्कड़ समाजवादी मिजाज के लेखक के लिए एक शब्द भी कहना उचित नहीं समझे।

इस बार क्या होगा? यह तो 8 जुलाई को पता चलेगा, लेकिन राष्ट्रपुरुष चन्द्रशेखर – संसद में दो टूक (भाग दो) के लोकार्पण समारोह की चर्चा चौतरफा है। हर चर्चा में एक सवाल है, इस बार क्या होगा, समाजवादी विचारों की पुस्तक के भाजपाई लोकार्पण समारोह में? इसे लेकर विधान परिषद सदस्य यशवंत सिंह के समर्थकों ने राजधानी को होर्डिंगों से पाट दिया है।manoj

वरिष्‍ठ पत्रकार मनोज श्रीवास्‍तव की रिपोर्ट.