गद्दारी तो इन के डीएनए में है, अटलजी को भी दिया था धोखा

atal bihari bajpayee

: सोज ने गद्दारी की और वाजपेयी सरकार के खिलाफ वोट दिया : सैफुद्दीन सोज ने कश्मीर की आजादी को लेकर जो बयान दिया है उस से मुझे तो कोई हैरानी नहीं हुई है। नमक हरामी और गद्दारी इन की नस नस में बसी है। भूल गए क्या। इसकी गद्दारी की वजह से ही अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार एक वोट से गिरी थी।

सैफुद्दीन सोज 1998-99 में नेशनल कॉन्फ्रेंस के लोक सभा सदस्य थे। नेशनल कॉन्फ्रेंस भाजपा के नेतृत्व वाले एनडीए का हिस्सा थी और आज बड़ी-बड़ी बातें बघारने वाले उमर अब्दुल्ला खुद मंत्री थे। नेशनल कॉन्फ्रेंस ने व्हिप जारी की थी वाजपेयी सरकार के पक्ष में वोट देने की, लेकिन जिसके जेहन में गद्दारी रच बस चुकी हो वह क्या करता भला?

और सोज ने गद्दारी को अमली जामा पहनाया और वाजपेयी सरकार के खिलाफ वोट दिया और सरकार एक वोट से गिर गयी। सोज की गद्दारी रंग लाई और प्रकारांतर से यह गद्दार 2003 में कांग्रेस में शामिल हो गया, जो ऐसे लोगों का नेचुरल आशियाना है। आज जब सोज आतंकियों और पाकिस्तानियों की जबान बोल रहे तो हैरत ही क्या।

गद्दार गद्दारी से बाज नहीं आ सकता। पार्टी से गद्दारी करने वाला मुल्क से भी गद्दारी करेगा और सब देख रहे हैं कि वह ऐसा ही कर भी रहा है। क्या कांग्रेस कह सकती है कि उसका कोई वास्ता नहीं ऐसे लोगों से? नहीं कह सकती क्योंकि पप्पू गांधी खुद ” हिन्दुस्तां तेरे टुकड़े होंगे, इंशा अल्लाह इंशा अल्लाह” के नारे लगाने वालों के साथ गलबहियां करते हैं। देश के गद्दारों और इनकी पनाहगाह कांग्रेस को धिक्कार धिक्कार धिक्कार।rbs

राज बहादुर सिंह उत्तर प्रदेश के जाने माने पत्रकार हैं. हिंदी-अंग्रेजी पर समान पकड़ रखते हैं. दैनिक जागरण समेत कई बड़े संस्थानों में वरिष्ठ पदों पर रहे हैं. सियासतफिल्म और खेल पर जबरदस्त पकड़ रखने वाले श्री सिंह फिलहाल पायनियर में वरिष्ठ पद पर कार्यरत हैं. उनका लिखा फेसबुक से साभार लेकर प्रकाशित किया गया है.