राजौरी में दिवंगत हुए सैनिक के अपमान को लेकर नाराजगी, लोगों ने लगाया जाम

: दिवंगत सैनिक का पार्थिव शरीर पहुंचा उनके गांव, क्षेत्र में शोक की लहर : डीएम के आश्‍वासन के बाद माने लोग :  चन्दौली : जनपद के धानापुर क्षेत्रन्तर्गत पूरा चेता दुबे (पुरवा)गांव निवासी सेना के जवान कुलदीप कुशवाहा का पार्थिव शरीर मंगलवार प्रातः उनके गांव पहुंचते ही परिजनों के साथ ही क्षेत्र में शोक की लहर फैल गयी।

परिजनों में कोहराम मच गया वहीं क्षेत्र के लोगों ने शासन प्रशासन पर दिवंगत सैनिक के का अपमान किये जाने का आरोप लगाकर धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया गया। स्‍थानीय लोगों ने धानापुर चौराहे को जाम कर दिया।

इन लोगों ने शासन प्रशासन से नाराजगी जताते हुए विरोध स्‍वरूप धरने पर बैठ गये।  कुलदीप कुशवाहा के पार्थिव शरीर का राजकीय सम्मान के साथ दाह संस्कार की मांग करने लगे। इसी बीच क्षेत्रीय नेताओं का भी मौके पर जमावड़ा लग गया।

क्षेत्रीय नेताओं में सकलडीहा विधायक प्रभुनारायण यादव, पूर्व विधायक सैयदराजा मनोज सिंह डब्ल्‍यू,  सपा युवजन सभा के प्रदेश महासचिव मनोज सिंह काका सहित सैंकड़ों लोग इकट्ठे हो गये। इन लोगों ने भी शासन प्रशासन पर हल्‍ला बोला।

मनोज सिंह काका ने दिवंगत जवान के परिजनों को एक करोड़ रुपया सहायता राशि, एक व्यक्ति को नौकरी तथा दिवंगत जवान को शहीद का दर्जा देने की मांग की। बताया जा रहा है कि कुलदीप कुशवाहा जम्मू कश्मीर के राजौरी सेक्टर में तैनात थे।

उनकी मृत्यु हार्ट अटैक के चलते हो गयी थी। परिजनों का आरोप है कि कुलदीप कुशवाहा के पार्थिव शरीर को लेकर सेना का कोई अधिकारी या सैनिक नहीं आया। ऐसे में उनलोगों ने इसे उनका अपमान बताया तथा अपनी नाराजगी जताई।

काफी देर के बाद स्थानीय स्तर पर अधिकारियों के समझाने बुझाने के बाद भी जब जाम समाप्त नहीं हुआ तो जिलाधिकारी नवनीत सिंह चहल ने दिवंगत सैनिक कुलदीप कुशवाहा के अंतिम संस्कार को पूर्ण राजकीय सम्मान के साथ किये जाने व उनकी मांगों को ऊपर तक पहुंचाने का आश्वासन दिया, तब जाकर जाम समाप्त हुआ।