प्रदेश के 300 कुम्‍हारों को माटी कला मेले में बांटी गई इलेक्ट्रॉनिक चाक

कच्‍ची मिट्टी के पक्‍के रंग लखनऊवासियों को खूब लुभा रहे हैं… माटी के उत्‍पाद इस बार दिवाली को और भी खास बना रहे हैं…’वोकल फॉर लोकल’ की मुहिम को बढ़ावा देने वाली प्रदेश सरकार के प्रयास रंग ला रहे हैं। प्रदेशवासी चीन के उत्‍पादों की जगह स्‍वदेसी उत्‍पादों की खरीदारी कर सरकार की मुहिम ‘अबकी दिवाली देसी वाली’ के संकल्‍प को पूरा कर रहे हैं। लखनऊ के गोमतीनगर के संगीत नाटक अकादमी में सजे माटी कला मेले में कुम्‍हार अपने हुनर से सभी को कायल कर रहे हैं। माटी कला बोर्ड की ओर से आयोजित माटी कला मेले में इस बार कच्‍ची और पक्‍की मिट्टी के गणेश-लक्ष्‍मी, दीपक, झालर, टेराकोटा, मिट्टी के झरने, ब्‍लैक पॉटरी समेत मिट्टी के बर्तनों की खरीदारी लोग जमकर कर रहे हैं।

मेले में 100 स्‍टॉल लगाए गए हैं जिसमें प्रयागराज, गोरखपुर, बनारस, लखनऊ, आजमगढ़ समेत दूसरे कई जनपदों के हुनरमंद शिल्‍पकार प्रतिभाग ले रहे हैं। शिल्‍पकारों ने मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ का शुक्रिया अदा करते हुए कहा कि यह पहली ऐसी प्रदेश सरकार है जिसने माटी को सोने जैसा मान दिया है। साल 2017 से पहले हम लोगों के सामने कई समस्‍याएं आती थी जैसे न तो हम लोगों को तालाब की कच्‍ची मिट्टी मिल पाती थी, न ही ऐसे बड़ी प्रदर्शनियों में अपने उत्‍पादों को बेचने का मौका मिल पाता था लेकिन अब हम लोगों की समस्‍याओं का प्रदेश सरकार ने न सिर्फ निदान किया बल्कि हमारे उत्‍पादों की बिक्री बढ़ाने के लिए ऐसे कार्यक्रमों का बड़े पैमाने पर आयोजन भी करा रही है जिससे पर्वों के अवसर पर हमारी बिक्री और आमदनी बढ़ी है।

कुम्‍हार बोले इलेक्ट्रॉनिक चाक से तेजी से होगा काम

मेले में अब तक 300 इलेक्ट्रॉनिक चाक कुम्‍हारों को प्रदेश सरकार की ओर से निशुल्‍क बांटी जा चुकी हैं। इन इलेक्ट्रॉनिक चाक को पाकर कुम्‍हार बेहद खुश हैं। लखनऊ के कुम्‍हार अमरनाथ प्रजापति ने कहा कि सरकार की ओर से हम लोगों को ये इलेक्ट्रॉनिक चाक मुहैय्या कराकर हम लोगों की दिवाली को खास बना दिया है। तकनीक का प्रयोग कर अब मेरे जैसे कुम्‍हार कम समय में ज्‍यादा से ज्‍यादा मिट्टी के उत्‍पाद बना सकेंगे। इसके लिए हम प्रदेश सरकार को धन्यवाद देता हूं।