बंद को भाजपा के एक सवर्ण विधायक ने बताया साजिश, दूसरे ने दिया समर्थन (देखें वीडियो)

संजीव कुमार बाबा

: विधायक शुक्‍ला से नाराज दिखे प्रदर्शनकारी : बलिया : भारत बंद के दौरान पूरे जिले में बंद का असर दिखा। एससी-एसटी एक्‍ट  के विरोध में प्रदर्शनकारियों ने बीजेपी विधायक आनंद स्वरूप शुक्ला का घेरावा किया तथा विधायक के गाड़ी को चौराहे पर रोका। भीड़ से डरे विधायक अपने गाड़ी से नीचे नहीं उतरे। प्रदर्शनकारियों ने रोड जाम कर बलिया विधायक और मोदी मुर्दाबाद के नारे लगाए। एक्‍ट और आरक्षण का विरोध कर रहे प्रदर्शनकारियों ने रोडवेज बस स्टेशन पर भी जमकर हंगामा किया।

प्रदर्शनकारी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा से पूरी तरह नाराज नजर आए। तमाम जगहों पर मोदी मुर्दाबाद के नारे भी लगाए गए। कई जगहों पर मोदी का पुतला भी फूंका गया। चिलकहर में प्रदर्शनकारियों ने गड़वार एसओ पर हमला बोल दिया और उनकी गाड़ी का शीशा तोड़ दिया। इसके बाद पुलिस ने कई राउंड रबर की बुलेट चलाई। मौके से दो लोगों को पुलिस ने अरेस्‍ट कर लिया। कई दर्जन गाड़ियों को भी पुलिस ने अपने कब्जे में लिया।

इधर, प्रदर्शनकारियों द्वारा घेरे गए बीजेपी विधायक को पुलिस ने किसी तरह जाम से बाहर निकाला। विधायक ने कहा कि जो लोग विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं, वो दलित लोगों को भड़का कर देश को कमजोर करना चाहते हैं। नक्सली और भारत विरोधी ताकतों की बातों को इन लोगों को समझना चाहिए। जिस तरह से नक्सली देश को कमजोर करने के लिए टुकड़े-टुकड़े करने के लिए उन लोगों के साथ साजिशों के शिकार ये लोग हो रहे हैं।

विधायक ने कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस का नक्सली कनेक्शन आपने देखा होगा। कहा कि जितनी गैर भाजपा पार्टियां हैं नक्सलियों और देशद्रोही ताकतों के साथ लगी हुई है और उन्हीं के साजिशों के तहत पूरे देश में ये बंद का कार्यक्रम चलाया गया है। भारत बंद के दौरान, बंद समर्थकों और प्रदर्शनकारियों ने बीजेपी बैरिया विधायक सुरेंद्र सिंह का भी घेराव किया। विधायक ने प्रदर्शनकारियों का समर्थन किया। इससे खुश प्रदर्शनकारी सुरेंद्र सिंह को कंधे पर उठाकर जिंदाबाद के नारे लगाए।

विधायक सुरेंद्र सिंह ने कहा कि ये काला कानून कांग्रेस ने बनाया है और सबने मुहर लगाया है। सुप्रीम कोर्ट की भावना का आदर जब तक नहीं होगा, तब तक भारत जीवित नहीं रहेगा। मैं गैर दलित समाज के सम्मान की रक्षा करने के लिये राजनीति से संन्यास ले सकता हूँ। मुझे सवर्ण जनता ने विधायक बनाया है। सवर्ण जिस दिन इस्तीफा के लिए कह देंगे, मैं इस्तीफा दे दूँगा। विधायक ने एक्ट को काला कानून बताया।