संगम की रेती पर श्रद्धालुओं पर बरसे फूल

: खुश हुआ संत समाज और श्रद्धालु : हर-हर गंगे से गूंजे घाट, तट और मेला परिसर : मेला क्षेत्र में सुरक्षा, सुविधा और सफायी के मुकम्मल व्यवस्था : प्रयागराज/लखनऊ। दिन के 11 बजे। तीरथ राज प्रयागराज की पावन धरती स्थित गंगा-यमुना और सरस्वती के पवित्र संगम की रेती एवं घाट हेलीकॉप्टर की गड़गड़ाहट से गूंज उठा। गंगा-यमुना की रेती पर अस्थाई रूप से कल्पवास के लिए बसे और मौनी अमावस्या के पुण्य स्नान के लिए आये लाखों श्रद्धालुओं और संत समाज की निगाहें बरबस आसमान की ओर उठ गयीं।

लोग कुछ समझते इसके पहले ही हेलीकॉप्टर से फूलों की वर्षा होने लगी। तब जाकर लोगों की समझ में आया कि यह तो हमारा और हमारी परंपरा के सम्मान में योगी सरकार द्वारा की गई पहल है। यह वही सरकार है जिसके कार्यकाल में पहली कावड़यात्रा में शमिल शिवभक्तों पर भी इसी तरह पुष्पवर्षा हुई थी। इसके पहले वर्ष 2019 में प्रयागराज की धरती पर आयोजित अब तक के भव्यतम और दिव्यतम कुंभ के दौरान भी सरकार ने इसी तरह संत समाज और श्रद्धालुओं पर पुष्पवर्षा कर उनको ओर अपनी परंपरा को सम्मानित किया था। फिर क्या था पूरा मेला परिसर, संगम सहित स्नान के सभी घाट हर-हर गंगे के उद्घोष से गूंज उठे। इस उद्घोष में हेलीकॉप्टर की गड़गड़ाहट की आवाज गुम हो गई।

मालूम हो कि माघ मेले में महीने भर के कल्पवास ओर प्रमुख स्नान पर्वों पर आने वाले संत समाज एवं श्रद्धालुओं की सुरक्षा और सुविधा की सरकार ने मुकम्मल व्यवस्था की है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वच्छ भारत की मंशा के अनुरूप सफाई व्यवस्था पर विशेष ध्यान दिया गया है। मुख्यमंत्री की ओर से स्थानीय प्रशासन को भी इस बाबत निर्देश दिये गए हैं कि वह मेला परिसर में सुविधा, सुरक्षा और सफाई व्यवस्था को सर्वोपरि रखे। मिली जानकारी के अनुसार मौनी अमावस्या के दिन वहां संगम में करीब 50 लाख लोगों ने श्रद्धा की डुबकी लगाई।

मुख्यमंत्री ने दी श्रद्धालुओं और प्रदेशवासियों को बधाई

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लोक आस्था के महापर्व मौनी अमावस्या पर सभी श्रद्धालुओं और प्रदेशवासियों के प्रति शुभकामना व्यक्त की है। अपने संदेश में उन्होंने कहा है कि व्रत एवं दान की महत्ता को प्रकट करता यह पावन पर्व सभी के लिए मंगलकारी हो। प्रभु श्रीराम की कृपा से समस्त प्राणियों के जीवन में सुख-शांति एवं समृद्धि का वास हो। इस पावन अवसर पर पवित्र संगम में स्नान का पुण्य लाभ अर्जित कर रहे सभी श्रद्धालुओं की सकल मनोकामनाएं पूर्ण हों। धर्मनगरी प्रयागराज में सभी कल्पवासियों की साधना सुगमता से पूर्ण हो। माँ गंगा से प्रार्थना है कि उनकी आध्यात्मिक अपेक्षाओं को पूर्णता प्रदान करें।