दशाश्वमेघ घाट पर आरती के दौरान गंगा में समाई नाव, मचा हडकंप

हरेन्द्र शुक्ला

वाराणसी। दशाश्वमेघ घाट पर होने वाली नियमित गंगा आरती के दौरान उस समय हडकंप मच गया जब एक खाली नाव देखते ही देखते गंगाजी में समा गई। यह संयोग ही था कि उस नाव में कोई दर्शनार्थी सवार नहीं था, नहीं तो किसी अनहोनी से इंकार नहीं किया जा सकता था।

काशी आने वाला हर पर्यटक और दर्शनार्थी दशाश्वमेघ घाट पर प्रतिदिन शाम को होने वाली गंगा आरती घाट की सीढियो के अलावा नावों पर सवार होकर बडी संख्या में लोग आरती देखते हैं। आरती के दौरान स्थानीय प्रशासन की ओर से सुरक्षा की मुक्कमल व्यवस्था भी की गई है। लेकिन पता नहीं क्यों आरती के दौरान गंगा जी में क्षमता से अधिक लोगों को नावो पर बैठाकर नाविको द्वारा सुरक्षा को धता बताकर आरती बद्दस्तुर जारी है।

यह किसी बडी घटना को दावत भी दे रहा है। मिली जानकारी के अनुसार शनिवार की शाम जब गंगा आरती हो रही थी, उसी दौरान एक खाली नाव में अचानक पानी भरने लगा और वह देखते ही देखते गंगा में समा गई।यह संयोग ही था कि उस नाव में कोई सवार नहीं था। नाव को डूबता देख दूसरे नावों पर सवार होकर गंगा आरती देख रहे लोगों में हड़कंप मच गया । घाट पर मौजूद नाविक और एनडीआरएफ की टीम ने तत्परता दिखाते हुये तत्काल डूबी हुई नाव के आसपास गोता लगाकर सर्च किया की कोई नाव हादसे का शिकार तो नहीं हुआ।

हालाकि इस दौरान गंगा में कोई व्यक्ति नहीं मिला। इस नाव हादसे में भले ही किसी तरह का कोई नुकसान न हुआ हो, लेकिन यह प्रशासन के लिए चेतावनी भी है कि यदि समय रहते प्रशासन ने इस पर अंकुश नहीं लगाया तो किसी बडे हादसे से इंकार नहीं किया जा सकता है।

बनारस से वरिष्‍ठ पत्रकार हरेंद्र शुक्‍ला की रिपोर्ट. श्री शुक्‍ला अमर उजाला, दैनिक जागरण, आज समेत कई अखबारों में कार्यरत रहे हैं.