पूर्वी भारत का गेटवे बनेगा बनारस  : नरेन्द्र मोदी  

हरेंद्र शुक्‍ला

: परंपराओं के आईने में काशी का हो रहा है विकास : पीएम ने दिया 557 करोड़ का सौगात : वाराणसी। विश्व स्तरीय संसाधनों से लैस करके बनारस को पूर्वी भारत के गेटवे के रुप में विकसित किया जायेगा। शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार का हब बनकर काशी उभर रही है। इस दिशा में सरकार प्राथमिकता के तौर पर कार्य कर रही है। यह बात अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में 14वीं बार दो दिवसीय दौरे पर आये प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कही। वह मंगलवार को काशी हिंदू विश्वविद्यालय के एम्फीथियेटर खेल मैदान में अपनी यात्रा के आखिरी दिन जन सभा को संबोधित कर रहे थे।

इस दौरान पीएम ने अपने जन्मदिन के रिटर्न गिफ्ट के तौर पर काशी को 557 करोड़ की विभिन्न परियोजनाओं का सौगात भी दिया। उन्होंने पिछली सरकारों पर तंज कसते हुये कहा  कि पहले काशी को बाबा श्रीकाशी विश्वनाथ जी के भरोसे अपने हाल पर छोड़ दिया गया था। यहां आने वाला हर व्यक्ति उदास हो जाता था। बाबा की कृपा से काशी को विकास की हम नई दिशा दे रहे हैं। परंपराओं को सहेजते हुए काशी में बदलाव लाने का प्रयास किया जा रहा है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि अनंत काल से जो इस शहर की पहचान रही, उसे संरक्षित करते हुए इस शहर में आधुनिक व्यवस्थाओं का समावेश किया जा रहा है। पीएम मोदी ने कहा कि सांसद बनने से पहले जब मैं यहां आता था तो शहर भर में बिजली के लटकते तारों को देखकर हमेशा सोचता था कि आखिर कब बनारस को इससे मुक्ति मिलेगी? आज शहर के एक बड़े हिस्से से लटकते हुए तार गायब हो गए हैं। बाकी जगहों पर भी इन तारों को जमीन के भीतर बिछाने का काम तेज़ी से चल रहा है।

उन्‍होंने कहा कि चार साल पहले जिस बदलाव का संकल्प लेकर निकले थे, वह अब नजर आने लगा है। आज काशी में हर दिशा में परिवर्तन की लहर दौड़ने लगी है। सोशल मीडिया पर लोगों को वाराणसी कैंट स्टेशन की खुशी में तस्वीर शेयर करते हुए देखता हूं तो मेरी खुशी दोगुनी हो जाती है। बनारस आने वालों को स्टेशन पर ही नई काशी की तस्वीर दिखाई देती है। विकास के गवाह बाबतपुर एयरपोर्ट आने वाले लोग भी बन रहे हैं। पहले एयरपोर्ट आने वाले पर्यटकों की संख्या 8 लाख होती थी, लेकिन अब वह संख्या बढ़कर 21 लाख हो गई है।

उन्होंने कहा कि पहले घाट पर गंदगी फैली रहती थी, लेकिन अब ऐसा नहीं है। हमारे घाट अब गंदगी से नहीं रोशनी से अतिथियों का सत्कार कर रहीं है। आज काशी में न सिर्फ आना-जाना आसान हो गया है बल्कि शहर के सौंदर्य को भी निखारा गया है।  उन्होंने कहा कि पर्यटन से परिवर्तन का ये अभियान निरंतर जारी रहेगा।  मां गंगा के जल में अब नावों के साथ क्रूज़ की सवारी का भी पर्यटक आनंद ले सकेंगे। इसके अलावा सारनाथ में पर्यटकों के लिए लाइट एंड साउंड शो की व्यवस्था की गई है।

पीएम ने कहा कि वाराणसी के बड़े और मुख्य पार्कों का विकास और सौंदर्यीकरण किया गया है। बुद्धा थीम पार्क, सारंग नाथ तालाब, गुरुधाम मंदिर, मारकंडेय महादेव मंदिर जैसे अनेक स्थलों का सुंदरीकरण किया जा चुका है। मोदी ने यह भी कहा कि शहर के अलावा जिले के आसपास के गांवों को भी सड़क, बिजली, पानी जैसी सुविधाएं पहुंचाई गई हैं।  सांसद के रूप में जिन गांवों को विशेष रूप से विकसित करने का जिम्मा मेरे पास है, उनमें से एक नागेपुर गांव के लिए आज पानी के एक बड़े प्रोजेक्ट का लोकार्पण किया गया है।

हेल्थ हब के रूप में उभर रहा है बनारस :  प्रधानमंत्री ने कहा कि बनारस अब हेल्थ हब के रूप में उभरने लगा है। बीएचयू में अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस देश का सबसे बड़ा ट्रॉमा सेंटर हजारों लोगों के जीवन को बचाने का काम कर रहा है। महामना कैंसर संस्थान और सुपर स्पेशिएलिटी अस्पताल लोगों को इलाज की अत्याधुनिक सुविधाएं मुहैया करायेगा। वही बीएचयू ने एम्स के साथ एक विश्वस्तरीय स्वास्थ्य संस्थान बनाने के लिए समझौता किया है। भविष्य की तकनीक के प्रति हमारा आकर्षण है। एक ओर वैदिक विज्ञान केंद्र का शिलान्यास हुआ है तो दूसरी तरफ अटल इन्क्यूबेशन सेंटर भी शुरू हुआ है। हम सभी को जितना अपनी पुरातन संस्कृति और सभ्यता पर गर्व है, उतना ही भविष्य की तकनीक के प्रति हमारा आकर्षण भी है।

बनारस से वरिष्‍ठ पत्रकार हरेंद्र शुक्‍ला की रिपोर्ट.