घिरती भाजपा बेचैन मोदी!

bjp

मनोज श्रीवास्तव

लखनऊ। केंद्र में सरकार बनाने को लेकर सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले उत्तर प्रदेश में भाजपा (BJP) को विपक्ष में सपा-बसपा और कांग्रेस के संभावित गठवन्धन के साथ ही सत्ता पक्ष के गठवन्धन में बढ़ रही खटास से कड़ी चुनौती मिल रही है।

जिसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यूपी में दौरा बड़ा दिया है। विपक्ष में सबसे मजबूत घटक समाजवादी पार्टी के मुखिया पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने हर हाल में विपक्ष का मजबूत गठवन्धन बनाने की गरज से अपने कार्यकर्ताओं के बीच में पहले ही घोषणा कर रखी है कि भले ही पार्टी को कुछ सीटें कम लड़ना पड़े लेकिन बसपा से गठवन्धन जरूर होगा।

कांग्रेस बसपा के साथ गठवन्धन मजबूत करने की घेरेबंदी में यूपी के बाहर भी आगे बढ़ कर बसपा के सामने प्रस्ताव रख दिया है। भाजपा गठबंधन के भीतर भारतीय समाज पार्टी के ओम प्रकाश राजभर लगातार सरकार पर हमलावर हैं।

अपनादल की (एस) की अध्यक्ष केंद्रीयमंत्री अनुप्रिया पटेल ने 2 जुलाई को लखनऊ में लोकजनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष और केंद्रीयमंत्री रामविलास पासवान के साथ संयुक्त कार्यक्रम कर अतिदलित पिछड़े वोट बैंक की उपेक्षा न करने और प्रमोशन में आरक्षण पर वकालत कर भाजपा पर दबाव बनाने की कोशिश किया। जवाब में भाजपा ने प्रधानमंत्री के कार्यक्रमों की झड़ी लगा दी।

जून में को मेरठ-दिल्ली सुपर एक्सप्रेसवे का लोकार्पण किया। 28 जून को संतकबीर की निर्वाण साथली मगहर में आकर गोरखनाथ, कबीर और गुरुनानक का सत्संग स्थल बता दिया,जिसकी बहुत हंसी उड़ाई गयी। किसानों के उत्पाद का केंद्र सरकार द्वारा मूल्यवृद्धि करने के बाद मोदी 14 जुलाई को आजमगढ़, 15 जुलाई को मिर्जापुर, 21 जुलाई को शाहजहांपुर 29 जुलाई को लखनऊ में किसान रैली करेंगे।

इसके पहले पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह मिर्जापुर विस्तारकों और पदाधिकारियों के साथ,वाराणसी में आईटी सेल के साथ और आगरा में रणनीतिक बैठक किया है।

इस संदर्भ में उत्तर प्रदेश की राजनीति पर गहरी पैठ रखने वाले वरिष्ठ पत्रकार धीरज कुमार ने कहा कि जिस तरह से विपक्ष एकजुट हो रहा है और यूपी भाजपा के जमीनी कार्यकर्ता संगठन और सरकार की कार्यप्रणाली से असंतुष्ट हैं यदि समय रहते नेतृत्व इसमें सुधार नहीं करेगी तो लोकसभा 2019 का चुनाव परिणाम हाल ही में सम्पन्न हुए लोकसभा के उपचुनाव जैसा हो सकता है।manoj

वरिष्‍ठ पत्रकार मनोज श्रीवास्‍तव की रिपोर्ट.