हर्षोल्लास से मनाई गई महर्षि वाल्मीकि जयंती

चंदौली में धूमधाम से मनाई गई महर्षि वाल्मीकि जयंती : चंदौली : उत्तर प्रदेश पर्यटन विभाग द्वारा महर्षि वाल्मीकि जयंती का भव्य कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस अवसर पर सेवखर कलां में हनुमान मंदिर में श्रीराम व हनुमान एवं रामायण से संबंधित भव्य दीप प्रज्ज्वलन किया गया। तत्पश्चात डॉ अजय नारायण द्विवेदी, पं0 विकास अवस्थी जी, पं0 अंकित गर्ग द्वारा संस्कृत में पाठ का आयोजन किया गया।

इस अवसर पर बाल्मीकि रामायण पाठ, सांस्कृतिक कार्यक्रम, भजन कीर्तन, सूचना विभाग द्वारा प्रचार-प्रसार आदि का आयोजन किया गया।

साथ ही जनपद के विभिन्न जगह पर महर्षि वाल्मीकि जयंती का कार्यक्रम कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन सावधानीपूर्वक करते हुए पूजा पाठ किया गया।

इस कार्यक्रम में जनपद के स्थानीय स्तर के सांस्कृतिक दलों/कलाकारों ने भी सहयोग कर शिरकत किया।

मुख्य विकास अधिकारी डॉ.अभय कुमार श्रीवास्तव ने भी महर्षि वाल्मीकि जयंती के अवसर पर सेवखर कलां स्थित हनुमान मंदिर में आयोजित कार्यक्रम में प्रतिभाग किया। उन्होंने महर्षि वाल्मीकि एवं श्री राम के चित्र पर पूजा अर्चना व माल्यार्पण किया।

सेवखर कलां मंदिर में 8 घंटे की वाल्मीकि रामायण का पाठ किया गया। इस दौरान श्री श्रीवास्तव ने कहा कि महर्षि वाल्मीकि जी विश्व के आदि कवि हैं। उन्होंने सर्वप्रथम काव्य की रचना रामायण महाकाव्य के रूप में की थी।

उन्होंने कहा कि महर्षि वाल्मीकि जी के जीवन से हमें प्रेरणा लेनी चाहिए। महर्षि वाल्मीकि जी ने रामायण कृति में एक आदर्श मनुष्य ,एक आदर्श समाज को प्रस्तुत किया है।

अतः हमें उनसे प्रेरणा लेनी चाहिए तथा रामायण के किसी एक चरित्र को अपनाकर अपने जीवन में इसको अपनाना चाहिए। इस मौके पर महेंद्र प्रताप सिंह, मनोज कुमार सिंह,

नंदलाल पांडेय, सूरज खरवार, राम लोचन यादव सहित अन्य ग्रामीणों ने भी महर्षि वाल्मीकि जी के जीवन चरित्र पर अपने विचार व्यक्त किए। इस अवसर पर पर्यटन विभाग की दिव्या तिवारी सहित आसपास के गांवों के संभ्रांत व्यक्ति उपस्थित रहे।