भाजपा हिन्दू-मुस्लिम के आधार पर लड़ेगी 2019?

मनोज श्रीवास्तव

लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी के मेरठ कार्यसमिति के समापन में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने अपने समापन उद्बोधन में एक तीर से दो शिकार साध कर पश्चिमी उत्तर प्रदेश के साथ पश्चिम बंगाल को भी गरम कर दिया। शाह के जाने के बाद उनके उद्बोधन की जानकारी देते हुए प्रदेश अध्यक्ष डॉ महेंद्र नाथ पांडेय ने बताया कि उन्होंने कहा है कि देश में हिन्दू शरणार्थियों का सम्मान होगा।

पांडेय की मानें तो शाह यहीं नहीं रुके उन्होंने जोर देकर कहा है कि हम घुसपैठियों को देश में नहीं रहने देंगे। पांडेय ने स्पष्ट किया कि हम भारत की सीमा में आये हिन्दू, सिख और बौद्धों को शरणार्थी मानते हैं। बता दें कि प्रधानमंत्री द्वारा आज ही mst पर कहा गया था कि किसी को भी गलत तरीके से नहीं निकला जायेगा तो बांग्लादेशी घुसपैठियों को कुछ राहत महसूस हुई थी  लेकिन चंद घंटों में ही मेरठ में अमित शाह ने स्पष्ट कर दिया कि बांग्लादेशी घुसपैठियों को देश में नहीं रहने देंगे।

इसके अलावा शाह ने बूथ स्तर तक केंद्र और प्रदेश सरकार की उपलब्धियां पहुँचाने का आह्वाहन किया। पिछले 26 जनवरी को कासगंज में तिरंगा यात्रा निकलने में चंदन गुप्ता नामक कार्यकर्ता की हुई हत्या के बाद इस बार फिर तिरंगा यात्रा की तैयारी से प्रशासन के हाथ-पांव फूल गए हैं। पुलिस अधीक्षक कासगंज ने १५ अगस्त के कार्यक्रम को सकुशल संपन्न कराने के लिए डीजीपी से अतिरिक्त फोर्स की मांग किया है। आज ही मुजफ्फरनगर के जिलाधिकारी ने कानून मंत्रालय को भेजी गयी रिपोर्ट में सपा सरकार में हुए मुजफ्फरनगर दंगों में आरोपी प्रभावशाली भाजपा नेताओं पर दर्ज मुकदमे वापस लेने से मना कर दिया है।

भाजपा की मेरठ कार्यसमित में अमित शाह के उद्बोधन और आज की राजनैतिक गर्मी के सन्दर्भ में वरिष्ठ पत्रकार सुधांशु कुमार ने कहा कि अमित शाह ने एक तीर से दो निशाना लगाया है। पहला वह पश्चिम को हिन्दू-मुस्लिम करने की कोशिश किये हैं दूसरा पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी के वोट बैंक बांग्लादेशी-रोग़नियां मुस्लिम घुसपैठियों को चेतावनी देने में कामयाब रहे। इससे अनुमान लगाया जा सकता है कि भाजपा चाहे जितना विकास -विकास चिल्लाये वह अगला लोकसभा चुनाव 2019 हिन्दू -मुस्लिम करके ही लड़ेगी।फिल हाल पार्टी हिंदी भाषी यूपी-बिहार के लिए पिछडोंन्मुख-दलितोन्मुख एजेंडा अलग से तैयार कर रखी है।manoj

वरिष्ठ पत्रकार मनोज श्रीवास्तव की रिपोर्ट.