राम की नगरी में धर्मांतरण की साजिश, गरीब-बेरोजगार निशाने पर!   

मनोज श्रीवास्‍तव

: पुलिस ने किया ऐसी घटना से इनकार : हिंदूवादी संगठनों में नाराजगी :  लखनऊ : रामराज स्थापित करने का सपना दिखाने वाली पार्टी के राज में अयोध्या से चंद कदम पर ईसाई मिशनरी धर्मांतरण कराने में सक्रिय हैं, लेकिन पुलिस अधीक्षक ने मामले को झूठा बता कर पल्ला झाड़ लिया। हिंदूवादी संगठनों में इसको लेकर व्यापक आक्रोश व्याप्त है। प्राप्त समाचार के अनुसार फैजाबाद शहर क्षेत्र के कैंट थाना क्षेत्र के सिंचाई विभाग के कालोनी में सागर नाम का पादरी हर रविवार को शहर के आसपास के बेरोजगारों को बरगलाकर कर हिन्दू से ईसाई बनाने के लिए प्रेरित करता है।

सूत्रों के अनुसार स्थानीय लोगों की शिकायत पर पुलिस विभाग के वरिष्ठ अफसरों ने मौके पर दबिश देकर सागर को हिरासत में लिया था। जिसे पूछताछ के बाद छोड़ दिया। मौके पर मिले लोगों ने बताया कि हर रविवार को 50-60 लोग इस कालोनी में आते हैं। प्रायः एक-दो घंटे प्रार्थना करने वाले किसी-किसी रविवार को पूरा दिन धार्मिक प्रार्थना करते हैं।

यहां आने वाले युवक-युतियों के अभिभावकों ने बताया कि हमारे बच्चों को पैसा और रोजगार का लालच देकर ये पादरी बहला-फुसलाकर धर्मांतरण करना चाहता है। इस संदर्भ में विश्व हिंदू परिषद के प्रवक्ता शरद शर्मा ने बताया कि धर्मांतरण से राष्ट्रान्तरण हो रहा है, इसलिए हिन्दू समाज को भी किसी भी प्रलोभन से बचना चाहिए। जो अफसर इस घटना को झूठ बता रहे हैं उनसे पूछिये की वह वहां क्यों गये थे? पादरी सागर को हिरासत में लेकर किन-किन बिंदुओं पर बात किया।

सिंचाई विभाग के सरकारी कालोनी में धड़ल्ले से धर्मांतरण का कुत्सित प्रयास चल रहा है। पुलिस अपनी नाकामी छुपाने के लिए मामले को झुठला रही है। अब प्रत्येक रविवार बजरंग दल के कार्यकर्ता ऐसे संदिग्ध कालोनियों पर पहरा बिताएंगे। विहिप अपने संपर्क को और सक्रिय करेगा।manoj

वरिष्‍ठ पत्रकार मनोज श्रीवास्‍तव की रिपोर्ट.