अमेरिका जा सकेंगे भारतीय, US ने 20 महीने बाद ट्रैवल बैन हटाया

अमेरिका ने 20 महीने बाद ट्रैवल बैन खत्म कर दिया है। US ने सोमवार से भारत, मैक्सिको, कनाडा सहित ज्यादातर देशों के टूरिस्ट के लिए फिर दरवाजे खोल दिए हैं। हालांकि अमेरिका में एंट्री लेने के लिए वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट जरूरी होगा।

कोरोना संक्रमण के केस बढ़ने के बाद पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपने कार्यकाल के दौरान मार्च 2020 में ट्रैवल बैन लगाया था। जिन देशों पर बैन लगाया गया था, उनमें भारत, चीन, ब्रिटेन और यूरोपियन यूनियन सहित ब्राजील, मैक्सिको और कनाडा भी शामिल थे। तब से अब तक पिछले 20 महीने से लाखों लोग अपने परिजनों से मिलने का इंतजार कर रहे थे।

ट्रैवल बैन के कुछ महीनों बाद लोगों को अमेरिका से दूसरे देशों में जाने की छूट दे दी गई थी, लेकिन उन्हें अमेरिका लौटने पर कई परेशानियों का सामना करना पड़ता था। इसका सबसे ज्यादा असर मैक्सिको और कनाडा जैसे अमेरिका के पड़ोसी देशों पर पड़ा था। इन देशों की बॉर्डर अमेरिका से लगने के कारण यहां के लोग नौकरी और व्यापार के सिलसिले में अक्सर अमेरिका जाते रहते थे।

प्रतिबंध लगने के बाद कई लोगों को नौकरी गंवानी पड़ी तो कइयों का बिजनेस चौपट हो गया। कोरोना संक्रमण के पीक के समय कनाडा के लोगों को अमेरिका जाने से पहले RT-PCR जांच करानी होती थी, जिसका खर्च 250 डॉलर (करीब 15 हजार रु.) होता था।
अमेरिका ने फ्लाइट से US पहुंचने वाले यात्रियों के लिए प्रतिबंध खत्म कर दिए हैं, लेकिन लैंड बॉर्डर से बैन धीरे-धीरे खत्म किया जाएगा। दरअसल, अमेरिकी प्रशासन को डर है कि अचानक लैंड बॉर्डर पूरी तरह खोल देने से कोरोना के मामले दोबारा बढ़ सकते हैं। इसलिए लैंड बॉर्डर 2 चरणों में खोलने का फैसला किया गया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक 20 महीनों से लगे ट्रैवल बैन से एयरलाइन कंपनियों को भारी नुकसान हो रहा था। कंपनियां लगातार अमेरिकी सरकार पर बैन हटाने का दबाव बना रही थीं। नए नियमों के तहत एक जिम्मेदारी एयरलाइंस को भी दी गई है। उन्हें अब हर यात्री का सटीक डेटा रखना होगा, ताकि आसानी से कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग की जा सके।