जलसे में झूमे लोगों से मौलाना ने मोहम्मद के बताए रास्ते पर चलने की अपील की

चंदौली। जनपद के शकुराबाद गाँव में जश्ने ईद मिलादुन्नबी व इस्लाहे मोहम्मद आसरा कॉन्फ्रेंस के तत्वावधान में नमाज़ ईशा के बाद जलसे का प्रोग्राम किया गया। जो देर रात्रि 3 बजे भोर तक चला।
  इस दौरान लोग झूम झूम कर बोले मरहब्बा-मरहब्बा या मुश्तफ़ा। ये जलसा 24 वर्षो से किया  जा रहा है। जिसमे लोग दूर दराज से तसरीफ फरमाते है। बड़े बड़े आलिम कामिल मौजूद रहते है। कार्यक्रम में मुख्य रुप से उपस्थित मौलाना सैयद अमीनुल कादरी ने जलसे में लोगों को मोहम्मद के बताए रास्ते पर चलने की अपील की।
मौलाना ने कहा कौम के लोग रास्ता भटक गए हैं
  कहा कि मोहम्मद साहब ने हमें जिस रास्ते में चलने का निर्देश दिया। उस रास्ते से कौम के लोग भटक गए है। जिस कारण समाज के लोगों को तरह-तरह की परेशानी से जूझना पड़ रहा है। लोग नमाज पढ़ना नहीं चाहते हैं। दिन भर दूसरों की गीबत में मशगूल रहते हैं। उन्होंने कौम के बच्चों को अच्छी नसीहत देने की अपील की।
शिक्षा से बच्चों को सही रास्ते पर ले जा सकते हैं
    कहा कि शिक्षा के बिना बच्चों को अच्छे-बुरे की तमीज नहीं होगी। कहा कि शिक्षा ही एक ऐसी चीज है जिससे बच्चों को सही रास्ते पर ले जाया जा सकता है। इस दौरान मुख्य रुप से मौलाना सैयद आरिफ इकबाल , मौलाना अब्दुल , गफ्फार , मुमताज़ तांडवी , मौलाना दिलशाद अहमद कादरी, मुबारक हुसैन , इमरान रज़ा, आरिफ हुसैन , इरफान रज़ा, रईश अहमद, मुहमद अली अकबर, मौलाना शमसुल्हक , कयामुद्दीन आदि उपस्थित रहे।