नक्सल क्षेत्र के जंगल में सघन कांबिंग

नौगढ़ (चंदौली)।केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल 148BN के कमाण्डेंट राजीव कुमार चौधरी के निर्देश पर सीआरपीएफ सी/148 बटालियन भैसौड़ा कैम्प के इंस्पेक्टर अब्दुल माबूद के नेतृत्व में जवानों ने नक्सल क्षेत्र के सुदूरवर्ती इलाकों के घनघोर जंगलो में सघन कांबिंग की। इस दौरान जवानों ने राहगीरों, चरवाहों व ग्रामीणों से नक्सलियों की आवाजाही के बारे मे टोह लेते हुए संदिग्ध व्यक्तियों के बारे में पूछताछ किया।

जवानों ने तेन्दुआ हरियाबांध व सोनवार सहित कई गांवों व जंगलों पहाड़ियों, अराड़ों तक पगडंडियों के रास्ते कांबिंग अभियान चला करके लोगों में विश्वास पर्ची वितरीत की। जवानों ने ग्रामीणों से कहा कि राष्ट्र की मुख्य धारा के विपरीत कार्यों मे संलिप्त लोगों की सूचना तत्काल विश्वास पर्ची में अंकित थाना व पुलिस चौकियों के नंबरों पर देकर के कानून की मदद करें, जिससे समय रहते सुरक्षा बल के जवान मौके पर पहुंच कर के त्‍वरित छानबीन व कार्रवाई करके क्षेत्र में अमनचैन कायम रख पाने में अपना योगदान दे सकें।

ग्रामीणों ने जवानों को बताया कि सरकार द्वारा संचालित जन हितकारी योजनाओं का समुचित लाभ नहीं मिल पा रहा है। ब्लाक मुख्यालय के अन्तिम छोर पर बसा गांव बिहार प्रदेश की सीमा पर आसीन उपरोक्त गांवों के रहनुमाओं को शिक्षा स्वास्थ्य खाद्मान सहित कई जनहितकारी योजनाओं का भरपूर लाभ पाने में असुविधाओं का सामना करना पड़ रहा है। इतना ही नहीं अन्य विभागों के अधिकारी व कर्मचारी भी शायद यहां आना मुनासिब नहीं समझते हैं। इसके चलते यहा के लोग जानकारी के अभाव में सरकार की योजनाओं से वंचित हो रहे हैं।

इस पर इंस्पेक्टर अब्दुल माबुद ने कहा कि समस्याओं के निराकरण के लिए संबंधित विभागीय अधिकारियों को अवगत कराया जाएगा। उन्होंने बताया कि नक्सलवाद व समाज की मुख्य धारा मे संलिप्त लोगों के साथ ही उन्हें संरक्षण प्रदान करने वाले भी बराबर के दोषी हैं। इसलिए ऐसे लोगों को संरक्षण एकदम न दिया जाय। और संज्ञान में आते ही नजदीकी थाना व पुलिस चौकियों के विश्वास पर्ची में अंकित मोबाइल फोन नंबरों पर सूचना दिया जाय। कांबिंग अभियान में चकरघट्टा सब इंस्पेक्टर विजय शंकर यादव व पीएसी, पुलिस और सीआरपीएफ के जवान शामिल रहे।

नौगढ़ से सुनील कुमार की रिपोर्ट