नौ महीने से व्‍यस्‍त सांसदजी के फोटो को केक दिखाकर विधायिकाजी ने मनाया हैप्‍पी बड्डे

0
1527
सांसदजी के फोटो को केक दिखातीं विधायिका

राजीव गुप्‍ता

  • लोकतंत्र की गद्दी पर खड़ाऊ की जगह रखी गई फोटो

चंदौली : जिले लोकप्रिय सांसदजी का जन्‍मदिन था। जनता को उम्‍मीद थी कि सांसदजी को देखने का सौभाग्‍य मिलेगा। पिछले नौ महीने से सांसदजी का दर्शन दुर्लभ है तो कार्यकर्ताओं को भी उम्‍मीद थी कि उनका दर्शन प्राप्‍त होगा, क्‍योंकि नौ महीने में नवसृजन हो जाता है। सांसदजी भी नौ महीने होने पर क्षेत्र की तरफ निकल ही आयेंगे, पर यह सौभाग्‍य ना तो जनता को मिल सका और ना ही कार्यकर्ताओं को।

खैर, जनता और कार्यकर्ता ठहरे सांसदजी के भक्‍त तो उन्‍होंने लोकतंत्र की गद्दी पर सांसदजी की खड़ाऊं की जगह फोटो रखकर जन्‍मदिन पर होने वाला क्रिया कर्म पूरा किया। सांसदजी की व्‍यस्‍तता के चलते अब जनता और कार्यकर्ताओं को उनकी जगह उनके फोटो का ही भरोसा शेष नजर आने  लगा है। और अब तो ऐसा भी लग रहा है कि सांसदजी की व्‍यस्‍तता के चलते उनके फोटो पर ही माल्‍यार्पण करके जनता-कार्यकर्ता स्‍वागत कर पायेंगे।

समय के बेहद पाबंद सांसदजी के ना आने से जनता तो जनता, मुगलसराय की विधायिका को भी फोटो का ही सहारा लेना पड़ा। सांसदजी की खड़ाऊ मौके पर उपलब्‍ध नहीं होने के चलते मुख्‍यालय पर जन सहयोग केंद्र में लोकतंत्र की गद्दी पर उनकी फोटो रखी गई। फिर कुल जमा 11 लोगों के सानिध्‍य में उनके फोटो को टीक कर केक काटा गया। फिर उनकी फोटो को केक खिलाने-दिखाने का उपक्रम किया गया। कार्यकर्ताओं ने बताया कि फोटो ने केक नहीं खाया, तो 11 लोगों में बंट गया।

खबर ये भी है कि सांसदजी की लंबी जिनगी, बेहतर स्‍वास्‍थ्‍य के लिये प्रार्थना किया गया तथा उन्‍हें बधाई दी गई। उन्‍होंने सांसदजी को तरक्‍की की भी कामना की। मिठाई भी बांटे जाने की खबर सामने आ रही है। इस पावन मौके पर विद्यासागर गुप्ता, राघवेंद्र सिंह, दिलीप सोनकर, ओमप्रकाश मौर्य, हेमनाथ अग्रहरि, मनोज सिंह, आलोक सिंह, अशोक सिंह, प्रिंस सिंह आदि कार्यकर्तागण मौजूद थे।

अब इस महान दिवस पर भी विपक्षी विधवा विलाप करने से नहीं चूके। एक यादवजी ने तो यहां तक पूछ लिया कि क्‍या अब आम लोगों को अपनी बात कहने के लिये या समस्‍या बताने के लिये फोटो के सामने ही खड़ा होना पड़ेगा? वह इस साल लौटेंगे या फिर अगले चुनाव के समय ही दर्शन होगा? खैर, इस तरह के आरोप विपक्ष लगाता ही रहता है, लेकिन सांसदजी को इससे विचलित हुए बगैर अपना काम करना चाहिए। उनके ऊपर पूरे देश की जिम्‍मेदारी है, संसदीय क्षेत्र में तो फोटो से भी काम चल जायेगा।