नया चैंपियन होगा या पुराने के रजिस्टर की एंट्री बढ़ेगी

fifa

राज बहादुर सिंह

: चार टीमें बन चुकी हैं पहले भी चैंपियन : लखनऊ : अब पाले बराबर खिंचे हुए हैं और आज से आगे का सफर शुरू होगा। बची आठ टीमों में चार ऐसी हैं, जो कभी न कभी फुटबाल वर्ल्ड कप जीत चुकी हैं, जबकि चार टीमों के खाते में आज तक यह उपलब्धि नहीं आयी है। मतलब यह कि क्या इस बार फुटबाल जगत को मिलेगा नया चैंपियन या फिर चैंपियन रह चुके किसी देश के खाते में चैंपियन होने की एक और एंट्री दर्ज होगी।

इंग्लैंड ने 1966 और फ्रांस ने 1998 में वर्ल्ड कप जीता था। उरुग्वे ने दो बार जीता। आखिरी बार वह चैंपियन 1950 में हुआ था। ब्राजील फुटबॉल की ताकत है और पांच बार का यह चैंपियन आखिरी बार 2002 में चैंपियन हुआ था। रूस, क्रोशिया, स्वीडन और बेल्जियम को कभी चैंपियन होना नसीब नहीं हुआ।

फ्रांस और उरुग्वे के बीच मुकाबला है, जिसका मतलब यह हुआ कि एक पुराने चैंपियन का सेमीफाइनल में पहुंचना तय है। बाकी मैच इंग्लैंड-स्वीडन, ब्राज़ील-बेल्जियम और रूस-क्रोशिया के बीच होंगे, जिसमें एक पूर्व चैंपियन और एक चैंपियन होने को बेताब टीम होगी। वर्ल्ड कप के इस मुकाम पर किसी को कम या ज्यादा आंकना जोखिम भरा है इसलिए शानदार खेल की उम्मीद करना ज्यादा बेहतर होगा।rbs

राज बहादुर सिंह उत्तर प्रदेश के जाने माने पत्रकार हैं. हिंदी-अंग्रेजी पर समान पकड़ रखते हैं. दैनिक जागरण समेत कई बड़े संस्थानों में वरिष्ठ पदों पर रहे हैं. सियासतफिल्म और खेल पर जबरदस्त पकड़ रखने वाले श्री सिंह फिलहाल पायनियर में वरिष्ठ पद पर कार्यरत हैं. उनका लिखा फेसबुक से साभार लेकर प्रकाशित किया गया है.