उपचुनाव में खराब EVM मशीनों से आक्रोश

उपचुनाव

मनोज श्रीवास्तव

लखनऊ। कैराना लोकसभा और नूरपूर विधानसभा के उपचुनाव में EVM को लेकर निर्वाचन आयोग की फजीहत हुई।चुनाव में भाग ले रहे सभी राजनैतिक दलों ने लखनऊ में प्रदेश के मुख्य चुनाव अधिकारी वेंकेटेश्वर लू से मिल कर अपनी-अपनी आपत्ति दर्ज करायी। कैराना और नूरपुर उपचुनाव के लिए सोमवार को वोटिंग हुई। वोटिंग सुबह 7 बजे से शुरू हुई तभी कई जगहों से ईवीएम खराब होने की सूचना आने लगी, जिससे कई बूथों पर मतदान प्रभावित हुआ।

ईवीएम खराब होने से मतदाताओं में आक्रोश दिखा। ईवीएम में खराबी को यूपी के पूर्व सीएम और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने साजिश करार दिया। उन्होंने ट्विट किया कि भरी धूप में किसान, मज़दूर, महिलाएं व नौजवान भूखे-प्यासे अपनी बारी का इंतजार कर रहे हैं। यह तकनीकी खराबी है या चुनाव प्रबंधन की विफलता या फिर जनता को मताधिकार से वंचित करने की साजिश। इस तरह से तो लोकतंत्र की बुनियाद ही हिल जाएगी। सपा प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम और रालोद प्रवक्ता अनिल दुबे ने प्रदेश निर्वाचन अधिकारी से मिलकर ईवीएम मशीनों की गड़बड़ी की शिकायत की।

बता दें कि नूरपुर विधानसभा में 113 ईवीएम मशीन खराब होने की शिकायत की गयी। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन द्वारा समय पर कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। कैराना लोकसभा उपचुनाव में भी दो दर्जन से ज्यादा मतदान केन्द्रों पर ईवीएम मशीन खराब होने की खबरें सामने आई। गंगोह विधानसभा में दर्जन भर गावों में ईवीएम में आई कमी के चलते मतदान घंटो तक बाधित रहा। गांव जंधेड़ी, भनेड़ा खेमचन्द,पांडोखेड़ी, टिकरौल समेत दर्जनों मतदान केंद्रों में मशीनें खराब रहीं।

यहां 2651 EVM लगे थे, 2596 VP पैड लगे थे, जिसमें 384 के खराब होने के कारण मतदान प्रभावित हुआ। शाम को 5 बजे भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डा. महेंद्र नाथ पांडेय ने भी प्रदेश निर्वाचन अधिकारी से मिल कर आपत्ति दर्ज कराई। इसके पहले भी प्रदेश उपाध्‍यक्ष जेपीएस राठौर के नेतृत्‍व में आयोग में शिकायत की गई थी। डा. पांडेय ने बताया कि आवश्यक हुआ तो प्रभावित जगह पर पुनर्मतदान की मांग करेंगे।

वरिष्‍ठ पत्रकार मनोज श्रीवास्‍तव की रिपोर्ट.