उफनाई गंगा पहुंचीं देहरी तक, बढ़ी तटवर्ती गांवों की धड़कन, देखें भयावह तस्‍वीरें

अबुल कैस डब्‍बल

: चंदौली एवं गाजीपुर जिले के कई गांव गंगा में विलीन होने की कगार पर : वाराणसी : पिछले तीन दिनों से गंगा के जलस्तर में बढ़ोतरी ने तटवर्ती गांवों के निवासियों की धड़कनें बढ़ा दी है। चंदौली और गाजीपुर जिले के कई गांव इस बार कटान के बिल्‍कुल मुहाने पर खड़े हैं। कई गांवों के किसान कटान का दंश झेलने को मजबूर हैं तो कई भूमिहीन हो चुके हैं। इस बार गंगा का पानी कई घरों की देहरी तक पहुंच गया है। पूरा मकान कब गंगा में विलीन हो जाए कहा नहीं जा सकता।

चंदौली जनपद के सैयदराजा विधानसभा अंतर्गत आने वाले धानापुर विकास खंड का नरौली गांव के कई घर गंगा में समाने के कगार पर पहुंच चुके हैं। दूसरी तरफ गाजीपुर जिले मोहम्‍मदाबाद विधानसभा शेरपुर गांव का एक भाग सेमरा भी कटान के मुहाने पर है। गंगा की धारा धीरे-धीरे गांव को अपने आगोश में लेने को व्‍याकुल है।

इन दोनों जिलों में भाजपा के सांसद और विधायक हैं। सभी ताकतवर हैं, इसके बावजूद नागरिकों की कहीं सुनवाई नहीं हो रही है। गाजीपुर के सांसद रेल राज्‍य मंत्री मनोज सिन्‍हा हैं तो चंदौली के सांसद प्रदेश अध्‍यक्ष डा. महेंद्रनाथ पांडेय हैं। मोहम्‍दाबाद विधानसभा की विधायक अलका राय हैं तो सैयदराजा के विधायक सुशील सिंह हैं, दोनों भाजपा के हैं। बावजूद ग्रामीणों की कहीं सुनवाई नहीं है।

इस वर्ष के बाढ़ में अब तक का सबसे ज्यादा बाढ़ दर्ज बुधवर को दर्ज किया गया। बाढ़ से क्षेत्र चंदौली के रामपुर दीया, प्रसाहटा, हिंगुटरगढ़, बुद्धपुर, नौघरा, रायपुर, नरौली, बड़ौरा, अमादपुर, सोनहुली, जिगना, कवालपुरा, गुरैनी सहित दर्जनों गांव को अपनी चपेट में ले लिया है। बाढ़ को लेकर इन गांवों में कोई भी व्यवस्था नहीं की गई है। गंगा का रौद्र रूप अब गांव की ओर हो गया है।

गंगा की धारा खेतों में बहना शुरू कर चुकी है। ऐसे ही जलस्तर बढ़ता रहा तो जल्द ही बाढ़ का पानी गांव के भीतर तक पहुंच जाएगा।  ग्रामीणों का कहना है कि जलस्तर में वृद्धि की रफ्तार काम तो हुई है, लेकिन बढ़ाव धीमी गति से जारी है। गंगा का पानी क्षेत्र के प्रसाहता, बुढेपुर, हिंगुटरगढ़ के सीवान में पहुंच गया है। प्रसाहटा, दीया, गड्डोचक के लोगों ने  अन्यत्र ऊंचे स्थान पर जाने की व्यवस्था में लग गए हैं।

कटान की जद में आए गांव