बहन-बेटियों की सुरक्षा से खिलवाड़ करने वालों के दिन लदे : योगी आदित्‍यनाथ

0
1603
  • 49.864 करोड़ रु0 लागत की 16 परियोजनाओं का लोकार्पण
  • 552.719 करोड़ रु0 लागत की 52 परिजनाओं का शिलान्यास
  • महिलाओं की सुरक्षा में पूरे समाज का सहयोग अपेक्षित
  • प्रदेश के 1,535 थानों तथा 350 तहसीलों में एक महिला ‘हेल्प डेस्क’ स्थापित की जाएगी

बलरामपुर : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने महिलाओं एवं बालिकाओं की सुरक्षा, सम्मान व स्वावलम्बन के उद्देश्य से आज जनपद बलरामपुर से ‘मिशन शक्ति’ अभियान का शुभारम्भ किया। उन्होंने जनपद बलरामपुर की 49.864 करोड़ रुपये लागत की 16 परियोजनाओं का लोकार्पण व 552.719 करोड़ रुपये लागत की 52 परिजनाओं का शिलान्यास भी किया।

यह योजनाएं प्राविधिक शिक्षा, उच्च शिक्षा, पंचायतीराज, चिकित्सा शिक्षा, विद्युत, लोक निर्माण, गृह एवं गोपन, जल निगम, माध्यमिक शिक्षा, न्याय, पशुधन, समाज कल्याण इत्यादि विभागों से सम्बन्धित हैं। इस अवसर पर मुख्यमंत्री जी ने ‘मिशन शक्ति’ का ‘लोगो’ भी जारी किया।

कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि नारी की सुरक्षा, सम्मान तथा स्वालंबन के लिए लागू किया जा रहा यह अभियान प्राथमिकता के साथ आगे बढ़ेगा। उन्होंने कहा कि ‘मिशन शक्ति’ अभियान तीन चरणों में चलाया जाएगा। पहले चरण में ‘जागरूकता अभियान’ चलाया जाएगा, दूसरे चरण में ‘मिशन शक्ति’ ऑपरेशन चलाया जाएगा तथा तीसरे चरण में ‘ऑपरेशन दुराचारी’ के अंतर्गत पूरे समाज का सहयोग लेकर दुराचारियों के विरुद्ध कानून सम्मत ढंग से दण्डात्मक कार्रवाई की जाएगी।

उन्होंने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा, सम्मान व स्वावलंबन के विपरीत आचरण कार्य करने वाले लोगों की फोटो चैराहों पर लगाकर उनका सामाजिक बहिष्कार किया जाएगा। मुख्यमंत्री  ने ‘मिशन शक्ति’ अभियान के सम्बन्ध में बताया कि प्रदेश के 1,535 थानों तथा 350 तहसीलों में एक महिला ‘हेल्प डेस्क’ स्थापित की जाएगी। इसमें महिलाओं से संबंधित समस्याओं पर त्वरित कार्रवाई की व्यवस्था होगी तथा उनकी समस्या के निदान व सुरक्षा के संबंध में अलग से महिला कांस्टेबल व कक्ष की व्यवस्था होगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इस अभियान के अंतर्गत महिला अपराध से संबंधित मामलों में त्वरित कार्रवाई की जाएगी तथा तय समय सीमा के भीतर जांच पूरी करते हुए दोषियों को कड़ी सजा दिलाई जाएगी। उन्होंने प्रदेश के 24 करोड़ लोगों को आश्वस्त किया कि उनकी सुरक्षा में सेंध लगाने वालों का स्थान इस प्रदेश में नहीं है, ऐसे लोगों के विरुद्ध सख्ती से कार्रवाई की जाएगी।

मुख्यमंत्री ने विगत दिनों बलरामपुर में हुई घटना का उल्लेख करते हुए बलरामपुर की बेटी को विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित की और कहा कि प्रदेश में कोई भी दुराचारी बचने न पाए इसके लिए सरकार पूरी प्रतिबद्धता के साथ कार्य कर रही है। जनपद की बेटी के सम्मान में ही ‘मिशन शक्ति’ का कार्यक्रम बलरामपुर की धरती पर रखा गया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि शारदीय नवरात्रि के प्रथम दिन से प्रारम्भ ‘मिशन शक्ति’ अभियान प्रदेश में आगामी चैत्र नवरात्र तक चलेगा। इसमें विभिन्न विभागों से अंतर्समन्वय करते हुए तीन चरण के कार्यक्रम संपन्न कराए जाएंगे। ‘नवरात्रि’ नारी शक्ति का प्रतीक है, व्यावहारिक जीवन में भी नारी को शक्ति के रूप में देखा जाए इसलिए इस अभियान का शुभारम्भ इस समय किया गया है।

उन्‍होंने कहा कि बलरामपुर की धरती से शुरू किये जा रहे अभियान से हर बेटी व हर बहन को सुरक्षा का संदेश मिल सकेगा। उन्‍होंने नौकरी के संदर्भ में कहा कि 31,227 सहायक अध्यापकों को नियुक्ति पत्र दिए गए हैं, जिसमें 33 प्रतिशत से ज्यादा महिलाएं चयनित हुई हैं। उन्होंने आशा व्यक्त की कि ये सभी महिलाएं शिक्षक के रूप में समाज के निर्माण में अपना महत्वपूर्ण योगदान देंगी।

कहा कि अभियान में 24 विभागों के अतिरिक्त विभिन्न स्वयंसेवी संगठन, महिला समूह, सामाजिक संगठन तथा यूनिसेफ जैसे संगठनों में अच्छा कार्य करने वालों की सूची बनाई जाएगी और प्रदेश स्तर पर एक स्वस्थ प्रतियोगिता का आयोजन करके उन्हें सम्मानित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि महिलाओं के स्वावलंबन के लिए 01 लाख 37 हजार पुलिस भर्तियां संपन्न हुई हैं, जिसमें 20 प्रतिशत महिलाएं हैं, जो आज समाज की सुरक्षा में अपना योगदान दे रही हैं। उन्होंने कहा कि नौकरी के अतिरिक्त अन्य स्वावलंबन के कार्यों से भी महिलाओं को जोड़ा जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड-19 वैश्विक महामारी की लड़ाई में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में व्यापक सफलता मिली है। उनके द्वारा समय से लिए गए निर्णयों से देश को लाभ मिला है। उन्होंने इस अवधि में विभिन्न कल्याणकारी योजनाएं संचालित कर जन-जन को उसका लाभ दिलाया है।

कहा कि 20 लाख करोड़ रुपये के आत्मनिर्भर पैकेज ने आत्मनिर्भरता का मार्ग प्रशस्त किया है। विगत 67 वर्षों से गरीब लोगों को जिन योजनाओं का लाभ नहीं मिला था, अब प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व में प्राप्त होने लगा है, और सरकार द्वारा संचालित योजनाएं स्वावलंबन और आत्मनिर्भरता का आधार बनी हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री के नेतृत्व में 4 करोड़ देशवासियों को निःशुल्क विद्युत कनेक्शन, 8 करोड़ परिवारों को निःशुल्क रसोई गैस, 12 करोड़ किसानों को किसान सम्मान निधि योजना का लाभ, 37 करोड़ लोगों का जनधन खाता तथा 50 करोड़ लोगों को ‘आयुष्मान भारत योजना’ से लाभान्वित किया गया है। आज प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत गरीबों को निःशुल्क खाद्यान्न मिल रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कल्याणकारी योजनाओं का लाभ जन-जन तक पहुंचाया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि महिलाओं से दुव्र्यवहार करने वालों की शिकायत अवश्य की जाए। सी0एम0 हेल्पलाइन नंबर ‘1076’ उपलब्ध है। उन्होंने कहा कि महिलाओं की सुविधा के लिए हेल्पलाइन ‘181’, ‘112’, ‘102’, व ‘108’ आदि को इण्टीग्रेट कर ‘मिशन शक्ति’ अभियान में लगाया जा रहा है। महिलाओं की सुरक्षा में पूरे समाज का सहयोग अपेक्षित है।

कार्यक्रम के पश्चात मुख्यमंत्री जी ने कोरोना काल में अच्छा कार्य करने वाली आशा कार्यकत्री, स्वयं सहायता समूह तथा फार्म मशीनरी के समूह को प्रमाण पत्र वितरित किये व जागरूकता हेतु एल0ई0डी0 वैन तथा परिवहन निगम की बसों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।

कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने कहा कि प्रदेश के हर थाने में महिला सशक्तीकरण के लिए ‘हेल्प डेस्क’ स्थापित की जाएगी तथा महिलाओं व बच्चों से संबंधित लंबित मामलों में प्रभावी पैरवी करके निस्तारण की कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने ‘मिशन शक्ति’ अभियान के प्रचार-प्रसार में मीडिया बंधुओं से भी सहयोग की अपील की।

इस अवसर पर जनजातीय क्षेत्र में रहने वाली बच्चियों द्वारा आत्म सुरक्षा हेतु जूडो कराटे तथा अन्य कलाकारों द्वारा लघु नाटिका के माध्यम से भू्रण हत्या के खिलाफ जन-जन में प्रभावी संदेश देने हेतु अपनी प्रस्तुति की गई। महिला एवं बाल सुरक्षा संगठन उप्र तथा महिला कल्याण विभाग की ओर से ‘मिशन शक्ति’ अभियान के अंतर्गत आकर्षक स्टाल लगाए गए।

आयुक्त देवीपाटन मंडल एसवीएस रंगाराव ने कार्यक्रम के अंत में मुख्यमंत्री सहित सभी के प्रति आभार व्यक्त किया तथा आश्वस्त किया कि मंडल के प्रत्येक जनपद में ‘मिशन शक्ति’ कार्यक्रम को पूरी तरह से सफल बनाया जाएगा। इस अवसर पर ‘मिशन शक्ति’ के ‘लोगो’ विषयक स्मृति चिन्ह मुख्यमंत्री जी को भेंट किया गया।

कार्यक्रम के दौरान विधायकगण कैलाश नाथ शुक्ल,  पल्टूराम, राम प्रताप वर्मा, अन्य जनप्रतिनिधिगण, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री एवं सूचना संजय प्रसाद सहित शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।