एक्टिव हुईं निगरानी समितियां, बेहतर सर्विलांस पर जोर

केरल, महाराष्ट्र और तमिलनाडु में तेजी से बढ़ रहे कोरोना के मामलों को देखते हुए उत्तर प्रदेश में सर्विलांस और जागरूकता अभियान तेज किया जा रहा है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निगरानी समितियों को फिर से एक्टिव करने और घर-घर संपर्क कर संदिग्ध मरीजों की तलाश करने के निर्देश दिए हैं।

गुरुवार को उच्चस्तरीय टीम-09 के साथ समीक्षा करते हुए सीएम ने कहा कि उत्तर प्रदेश में एग्रेसिव ट्रेसिंग, टेस्टिंग और त्वरित ट्रीटमेंट के साथ-साथ तेज टीकाकरण की नीति के अच्छे परिणाम मिले हैं। बीते 30 अप्रैल को यहां 3,10,786 कोरोना मरीज थे, लेकिन लगातार कोशिशों से आज यह संख्या महज 102 बची है, जबकि 16,87,123 लोग संक्रमण से ठीक हो चुके हैं।

सीएम ने कहा कि प्रदेश में कोरोना के अलावा डेंगू और डायरिया के मरीजों भी बढ़ रहे हैं। ऐसे में सर्विलांस को बेहतर कर मरीजों की पहचान करने और जरूरत के अनुसार सभी को बेहतर उपचार मुहैया कराने के लिए निगरानी समितियों को एक्टिव किया जाए। मुख्यमंत्री ने मास्क की अनिवार्यता को लेकर लोगों को जागरूक करने के भी निर्देश दिए हैं।

अपर मुख्य सचिव, स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने मुख्यमंत्री को बताया कि ताजा स्थिति के मुताबिक 38 जिलों में कोविड का भी मरीज नहीं है, तो 21 जिलों में 01-01 मरीज ही शेष हैं। बीते 24 घंटों में 01 लाख 63 हजार 781 नमूनों की जांच हुई, जहां, केवल 10 जिलों में कुल 11 नए मरीज मिले, वहीं 07 मरीज कोरोना मुक्त भी हुए। मुख्यमंत्री ने देश के दूसरे राज्यों की तुलना में यूपी की बेहतर स्थिति पर संतोष जताते हुए त्योहारों के दृष्टिगत भीड़भाड़ को लेकर सावधानी बरतने के निर्देश दिए हैं।

दोनों डोज पाने वाले सबसे ज्यादा यूपी में:

कोविड टेस्ट और टीकाकरण की देशव्यापी स्थिति में यूपी पहले पायदान पर बना हुआ है। यहां अब तक 12 करोड़ 83 लाख से अधिक वैक्सीन डोज लगाए जा चुके हैं। 09 करोड़ 71 लाख से अधिक लोगों ने टीके की पहली डोज प्राप्त कर ली है। यह टीकाकरण के लिए पात्र प्रदेश की कुल आबादी के 66 फीसदी से ज्यादा है। वैक्सीन की दोनों खुराक पाने वालों की तादात सबसे ज्यादा उत्तर प्रदेश में है। यहां 03 करोड़ 11 लाख से अधिक लोगों ने टीके की दोनों डोज ले ली है।

इन जिलों में एक भी कोरोना मरीज नहीं:
जनपद अलीगढ़, औरैया, बदायूं, बागपत, बलिया, बहराइच, भदोही, बिजनौर, बुलंदशहर, चित्रकूट, देवरिया, इटावा, फतेहपुर, फिरोजाबाद, गोंडा, हमीरपुर, हापुड़, हरदोई, हाथरस, जौनपुर, झांसी, कानपुर देहात, कासगंज, कुशीनगर, लखीमपुर-खीरी, महराजगंज, महोबा, मैनपुरी, प्रतापगढ़, रायबरेली, रामपुर, संतकबीरनगर, शामली, श्रावस्ती, सिद्धार्थनगर, सोनभद्र, सुल्तानपुर और उन्नाव में कोविड का एक भी मरीज शेष नहीं है। यह जनपद आज कोविड संक्रमण से मुक्त हैं।