मिशन शक्ति के तहत छह करोड़ से अधिक महिलाओं को किया गया जागरूक

: प्रदेश में लगेगी प्रशासन की पाठशाला, रोजगार के नए अवसरों की मिल रही जानकारी : लखनऊ। यूपी में पढ़ रहीं बेटियां आगे बढ़ रहीं हैं बेटियां… प्रदेश में महिलाओं बेटियों की सुरक्षा, सम्‍मान व स्‍वावलंबन के लिए प्रतिबद्ध योगी सरकार की योजनाओं व वृहद मिशन शक्ति अभियान से उनका मनोबन बढ़ रहा है। प्रदेश में मिशन शक्ति अभियान के तहत शहरी व ग्रामीण महिलाओं को सशक्तिकरण का पाठ पढ़ाया जा रहा है। महिला एवं बाल विकास विभाग की ओर से प्रदेश की छह करोड़ से अधिक महिलाओं को अब तक जागरूक किया जा चुका है।

आधी आबादी को सशक्‍त बनाने के सरकारी प्रयास जमीनी स्‍तर पर रंग ला रहे हैं। प्रदेश की महिलाओं व बेटियों को इस अभियान से न सिर्फ सरकारी योजनाओं की जानकारी मिल रही है बल्कि उनको इन योजनाओं का लाभ भी सीधे तौर पर मिल र‍हा है। बेटियों को सम्‍मान दिलाने व शिक्षा की दिशा में आगे बढ़ाने के लिए तत्‍पर योगी सरकार के मिशन शक्ति अभियान के तहत फरवरी माह में विशेष कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है। उत्‍तर प्रदेश में पहली बार महिलाओं व बेटियों के लिए शुरू किए गए इस वृहद अभियान से उनमें उत्‍साह देखने को मिल रहा है।

उत्‍तर प्रदेश में लगेगी प्रशासन की पाठशाला

प्रदेश में बेटियों के मनोबल को बढ़ाने के लिए अभियान के जरिए 15 फरवरी को प्रशासन की पाठशला कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा। जिसके तहत उन बालिकाओं और महिलाओं की काउंसलिंग की जाएगी जो विभिन्‍न प्रशासनिक सेवाओं जैसे पुलिस, फौज, एयरफोर्स समेत मेडिकल, इंजीनियरिंग व उद्योग जगत में आगे बढ़ने का सपना देख रहीं हैं। कार्यक्रम में जिलाधि‍कारियों व उच्‍चधिकारियों द्वारा ऑफलाइन व ऑनलाइन कैरियर काउंसलिंग शिविरों का आयोजन कर उनकी काउंसलिंग की जाएगी। इसके साथ ही 18 फरवरी को बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ व बाल संरक्षण सेंवाओं कार्यक्रम के तहत जनपद ब्‍लॉक स्‍तर पर खेलकूद प्रतियोगिताओं का आयोजन व पुरस्‍कार वितरण कार्यक्रम होगा।

हक की बात जिलाधिकारी के साथ

मिशन शक्ति अभियान के तहत हक की बात जिलाधिकारी के साथ कार्यक्रम का आयोजन प्रदेश स्‍तर पर 24 फरवरी को किया जाएगा। इस बार जिलाधिकारी किशोरियों व महिलाओं से दो घंटें तक संवाद स्थापित कर यौन शोषण, लैंगिक असमानता, घरेलू हिंसा, कन्‍या भ्रूण हत्‍या, कार्यस्‍थल पर लैगिंक हिंसा और दहेज उत्‍पीड़न जैसे मुद्दों पर बात करेंगे। इन मुद्दों पर महिलाओं व बेटियों को संरक्षण, सुरक्षा, सुझाव और सहायता भी देंगें। उत्‍तर प्रदेश के सभी जनपदों के जिलाधिकारी वेबिनार, चौपालों, ऑनलाइन बैठक और वीडियो कान्‍फ्रेंसिंग के जरिए किशोरियों व महिलाओं से रूबरू होगें।

रोजगार के नए अवसरों की मिल रही जानकारी

सरकारी व गैर सरकारी संस्‍थाओं की टीमों द्वारा ग्रामीण इलाकों की महिलाओं को रोजगार से जुड़े नए अवसरों की जानकारी दी जा रही हैं। जिसके तहत उनको लघु व कुटीर उद्योग, जैविक खेती, मास्‍क बनाने संग ड्रेस व डिजाइनर ज्‍वैलरी से जुड़े कामों को सिखाया जा रहा है। महिलाएं भी उत्‍साह संग इन कार्यों को सीख रही हैं। अभियान के तहत विभाग की ओर से महिलाओं व बेटियों को स्‍वावलंबी बनाने के कार्य पर बल दिया जा रहा है।

महिला कल्याण विभाग के निदेशक मनोज कुमार राय ने कहा कि मिशन शक्ति के अंतर्गत समस्त कल्याणकारी तथा संरक्षण संबंधी योजनाओं को उत्तर प्रदेश की अंतिम महिला तक पहुंचाने हेतु महिला कल्याण विभाग प्रतिबद्ध है। इस मिशन के माध्यम से महिलाओं और बालिकाओं के प्रति लोगों की सोच में बदलाव देखने को मिल रहें हैं।