नहीं थम रही गौ तस्करी : पुलिस ने पिकप पर लदे 6 गौवंश व एक तस्कर को असलहे संग दबोचा

0
7

चंदौली में नहीं थम रहा गौ तस्करी : बेरोक टोक सैंकड़ों किलोमीटर दूरी तय कर रहे गौ तस्करों से योगी की पुलिस पर उठ रहे सवालिया निशान : चंदौली : अलीनगर थाने की पुलिस ने चेकिंग के दौरान सिंधिताली के समीप एनएच 2 से एक पिकप को कब्जे में लेकर उसपर क्रूरतापूर्वक लदे हुए 6 गौवंशों सहित एक तस्कर को एक अदद 315 बोर के एक कट्टा व दो जिंदा कारतूस संग हिरासत में लेकर कानूनी कार्रवाई की है।

गौकशी व गौ तस्करी पर रोक लगाने के उद्देश्य से एसपी के निर्देश पर लगातार अभियान चलाये जा रहे हैं। इसी क्रम में अलीनगर थाना प्रभारी निरीक्षक के नेतृत्व में गठित पुलिस टीम द्वारा एनएच 2 पर सोमवार को वाहन चेकिंग की जा रही थी।

इस दौरान प्रयागराज की तरफ आ रही एक पिकप को रोक कर जब उसकी जांच की गई तो उसके अंदर क्रूरतापूर्वक ठूंसकर हुये 6 गौवंश लदे थे। जिसके बाद पुलिस ने तत्काल उक्त पिकप को मय गौवंश कब्जे में लेकर एक तस्कर को भी हिरासत में ले लिया।

उक्त तस्कर के पास से एक 315 बोर का कट्टा व दो जिंदा कारतूस भी बरामद किया गया। पुलिस ने मय गौवंश सहित पिकप तथा गौ तस्कर आलम कुरैशी पुत्र कलाम कुरैशी निवासी हाटा जिला कैमूर बिहार को थाने ले जाकर विधिक कार्यवाई करते हुए गौवंश को मुक्त करा दिया।

पूछताछ के दौरान गिरफ्तार तस्कर ने बताया कि वह गौवंश को प्रयागराज से लेकर पश्चिम बंगाल जा रहा था। गिरफ्तार किये गए तस्कर को पुलिस ने जेल भेज दिया।

गिरफ्तारी और बरामदगी करने वाली पुलिस टीम में जाफरपुर पुलिस चौकी इंचार्ज राजेश कुमार सिंह,हेड कॉन्स्टेबल कमला यादव,प्रमोद कुमार सिंह व कांस्टेबल अक्षय लाल यादव शामिल रहे।

योगी सरकार की पुलिस पर गौ तस्करी से उठे सवालिया निशान

वध के लिये प्रयागराज से गौवंश को लेकर पश्चिम बंगाल ले जा रहा हो और उसे लगभग 125 किलोमीटर तक कहीं रोका नहीं गया और ना ही किसी थाने के पुलिस की नजर ही पड़ी, यह योगी सरकार की पुलिस पर सवालिया निशान खड़े कर रहा है।

यह पहला मौका नहीं है जब जनपद की पुलिस ने गौकसी के लिए जा रहे गौवंशों को बरामद किया हो। पहले भी गौवंशों को बरामद किया जाता रहा है। लेकिन बड़ा सवाल यही है कि सैंकड़ों किलोमीटर बेरोक-टोक आखिर कैसे गौ तस्कर गौवंशों को लेकर चले आते हैं।

कहीं एनएच पर पड़ने वाले कोतवाली,थानों या पुलिस चौकियों की मिलीभगत तो नहीं। हालांकि विगत वर्षों में एनएच पर पड़ने वाले थानों से संबंधित दर्जनों पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई भी की गई थी।

बावजूद इसके गौकशी थमने का नाम नहीं ले रही। ऐसे में सिर्फ चंदौली जनपद की पुलिस के अकेले प्रयास से क्या गौकशी/गौ-तस्करी पर लगाम लगा पाना सम्भव है।