जफरपुर को किसी कीमत पर उजड़ने नहीं दिया जायेगा : रामकिशुन

एसबी यादव

चंदौली। जफरपुर गांव को उजड़ने नहीं दिया जाएगा। इसे बचाने के लिए किसी भी हद तक लड़ना पड़े, लड़ाई लड़ी जाएगी। रेल प्रशासन को किसानों की समस्याओं पर गंभीरतापूर्वक विचार करना होगा। उक्त बातें पूर्व सांसद रामकिशुन ने कही। वह शुक्रवार को विकासखंड के जफरपुर गांव में गांव के बीचो-बीच बिछाई जाने वाली प्रस्तावित रेलवे लाइन के विरोध में ग्रामीणों की बैठक को संबोधित कर रहे थे।

पूर्व सांसद ने कहा कि जफरपुर गांव के लोगों की जमीन पहले ही फ्रेट कॉरिडोर, औद्योगिक क्षेत्र, नेशनल हाईवे आदि के लिए सरकार द्वारा ली जा चुकी है। अब यह सरकार गांव को ही पूरी तरह उजाड़ना चाहती है। जिले का यह पहला गांव है, जिसे उजाड़ा जा रहा है। पर यह होने नहीं दिया जायेगा, इसके लिये आंदोलन की जरूरत पड़ी तो वह भी किया जायेगा।

उन्‍होंने कहा कि फ्लाईओवर बनाने के लिए जिन किसानों की जमीन व मकान अधिग्रहित किया जा रहा है, उसे रोकने के लिए पूरी ताकत से लड़ाई लड़ी जाएगी। रेल प्रशासन को किसानों द्वारा दिए जा रहे विकल्पों पर भी विचार करना चाहिए। इसके उपरांत ही आगे की कार्रवाई की जानी चाहिए। रेलवे के पास खुद की बेकार पड़ी हुई जमीन जफरपुर गांव से व्यासनगर रेलवे स्टेशन तक है।

उन्‍होंने कहा कि इतनी जमीन होने के बावजूद जफरपुर, डिहवा, एकौनी, खजूरगांव आदि गांव के किसानों को उजाड़ा जा रहा है। इसे किसी भी हाल में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। जल्द ही इसके विरोध में जफरपुर से ब्यासनगर तक विरोध पद यात्रा भी निकाली जाएगी। इस मौके बृजेश सिंह, हृदयनारायण सिंह, बीरेंद्र जायसवाल, बद्री यादव, रामनरेश, प्रेमनारायण, लक्ष्मीनारायण, शिवचन्द, रामविलास सोनकर, रामलखन पाल, किशोरी शर्मा, प्रभावती देवी, कौशल्या, मुन्नी, उषा, आशा आदि मौजूद रहे।