रामकिशुन के नेतृत्‍व चंदौली में किसान न्‍याय मार्च निकालेगी सपा

0
2270
पत्रकारों से वार्ता करते पूर्व सांसद रामकिशुन यादव एवं अन्‍य
  • पूर्व सांसद ने बिल को किसान विरोधी बताया
  • किसानों के खिलाफ काला कानून : सपा विधायक

चंदौली : केंद्र सरकार की किसान विरोधी विधेयक के खिलाफ चंदौली जिले के पूर्व सांसद रामकिशुन के नेतृत्‍व में समाजवादी पार्टी 12 अक्टूबर से पदयात्रा निकालकर मुहिम छेड़ेगी। सपाई मुगलसराय चकिया तिराहा से मार्च निकालते हुए मुख्यालय पहुंचेंगे तथा इस बिल के खिलाफ अपना विरोध जतायेंगे। पूर्व सांसद किसान बिल के खिलाफ चंदौली जिले में लगातार अभियान छेड़े हुए हैं।

इस किसान न्‍याय मार्च के संबंध में सपा कार्यालय पर पत्रकारों को जानकारी देते हुए पूर्व सांसद राम किशुन यादव ने कहा कि केंद्र सरकार आम जनता, नौकरीपेशा और व्‍यपारियों को बरबाद करने के बाद अब किसानों को भी बंधुआ मजदूर बनाने की तैयारी में जुट गई है। समाजवादी पार्टी केंद्र सरकार की इस मंशा का पुरजोर विरोध करेगी।

उन्‍होंने बताया कि किसान विरोधी विधेयक के खिलाफ चंदौली जिले में 12 अक्टूबर को अपराहन 10 बजे से किसान न्याय मार्च का आयोजन किया गया है। इसमें न्‍याय मार्च में किसान, मजदूर, व्यापारी के साथ ही सपा के सभी प्रकोष्ठ के पदाधिकारी, चारों विधानसभा के कार्यकर्ता चकिया तिराहे पर जुटेंगे। यहां से किसान न्याय मार्च केंद्र सरकार की मंशा का विरोध करते हुए जिला मुख्यालय पहुंचेगा।

पूर्व सांसद ने आरोप लगाया कि किसान विरोधी कानून बनाकर कारपोरेट घरानों के हाथों देने का काम किया जा रहा है। इसके लिए सपा लामबंद होकर केंद्र और राज्य सरकार से मांग करेगी कि यह कानून हर हाल में वापस लिया जाए। उन्‍होंने कहा कि सरकारी संस्थाओं का निजीकरण कर बेरोजगारों की फौज खड़ी करने का काम किया जा रहा है। प्रदेश में बलात्कार, अपराध ज्वलंत मुद्दा है। क्राइम पर कोई कंट्रोल नहीं है।

सकलडीहा विधायक प्रभु नारायण यादव ने कहा कि देश में सरकार द्वारा किसानों के खिलाफ काला कानून बनाकर किसानों का हक छीनने का काम किया जा रहा है। जीएसटी, महंगाई में व्यापारी भी त्रस्त हैं। केंद्र सरकार रसिया जैसे देश का कानून भारत में लागू कर कांट्रैक्ट फार्मिंग के तहत किसानों को यातना देने का काम करने जा रही है। देश में 85 फीसदी किसान 5 बीघा से कम की जोत वाले हैं।

विधायक ने आरोप लगाया कि भारत में कानून बनाकर कारपोरेट घरानों को मजबूत करने तथा भंडारण करके महंगाई बढ़ाकर जनता से वसूली करने का काम किया जा रहा है। इससे किसान बर्बाद होने जा रहा है। सपा आंदोलन के तहत राष्ट्रपति से इस विधेयक को वापस लेने की मांग करेगी।

पूर्व विधायक चकिया पूनम सोनकर ने कहा कि हाथरस जैसी घटनाएं आए दिन देश में हो रही हैं, लेकिन इस पर कोई कड़ा कानून बनाने का काम सरकार द्वारा नहीं किया जा रहा है। इस देश में बहन बेटियां सुरक्षित नहीं है। इस मौके पर पूर्व विधायक बब्बन चौहान, बाबू लाल यादव, नफीस अहमद गुड्डू, संतोष यादव, राजकुमार जायसवाल, अशोक सभासद, जलालुद्दीन, संजीव सिंह, रविंद्र सिंह, महेंद्र पासवान, केदार यादव, योगेंद्र यादव उर्फ चकरू यादव, औशाफ अहमद, सुदामा यादव, अश्वनी सोनकर सहित तमाम पार्टी के पदाधिकारी मौजूद रहे।