योगी आदित्यनाथ की अंत्योदय ‘दृष्टि’, प्रदेश में कोई भी नहीं रहेगा भूखा

pradesh
  • मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विश्वकर्मा श्रम सम्मान वाले 15 श्रेणियों के 2 लाख परिवारों को भरण-पोषण के लिए तत्काल 1000 रुपए जारी करने के दिए निर्देश
  • मुख्यमंत्री के निर्देश पर सरकार की तरफ से बढ़ई, दर्जी, टोकरी बुनने वाले, नाई, सुनार, लोहार, कुम्हार, हलवाई, मोची के बैंक खाते में भेजे जाएंगे 1000 रुपए

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अंत्योदय की भावना की दूरदृष्टि से उत्तर प्रदेश में कोई भी व्यक्ति भूखा नहीं सो सकता है। योगी की अंत्योदय की दृष्टि आज उनपर पर पहुंची, जो विश्वकर्मा श्रम सम्मान की 15 श्रेणियों में आते हैं। मुख्यमंत्री के निर्देश पर करीब 2 लाख परिवारों को भरण पोषण के रूप में 1000 हजार रुपए भत्ता तत्काल जारी किए जाएंगे। साथ ही सरकार इन्हें राशन भी मुहैया करवाएगी।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि अंत्योदय की भावना के साथ सभी लोगों को भोजन उपलब्ध करवाने के लिए हमारी सरकार कार्य कर रही है। विश्वकर्मा श्रम सम्मान से आच्छादित होने वाले शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों के बढ़ई, दर्जी, टोकरी बुनने वाले, नाई, सुनार, लोहार, कुम्हार, हलवाई, मोची जैसे 2 लाख परिवार हैं। इसमें सरकार के पास 30,000 परिवारों का विवरण हैं। इनके भरण-पोषण के लिए एक हजार रुपए का भत्ता तत्काल जारी किया जाएगा। इन्हें राशन भी सरकार की तरफ से दिया जाएगा।

गौरतलब है कि कोविड-19 के चलते मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर सरकार की तरफ से भरण-पोषण भत्ता के रूप में प्रत्येक गरीब के बैंक अकाउंट में एक हजार रुपए भेजा जा रहा है। इसी क्रम में अब मुख्यमंत्री ने विश्वकर्मा श्रम सम्मान के सभी लाभार्थियों को एक हजार रुपए भत्ता देने का निर्देश जारी किया है।