देश में 1.25 लाख प्राकृतिक चिकित्सा केन्द्र स्थापित करने का प्रस्ताव : श्रीपद नाईक

0
357

प्राकृतिक चिकित्सा के प्रचार-प्रसार हेतु 18 नवम्बर को द्वतीय प्राकृतिक चिकित्सा के उपलक्ष्य में इंटरनेशनल नैचुरोपैथी ऑर्गेनाइजेशन INO द्वारा आयुष मंत्रलय व सूर्या फाउण्डेशन के सहयोग से 12 से 18 नवम्बर 2019 से देश भर में विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए गये। प्राकृतिक चिकित्सा जन-जागरण सप्ताह का उद्घाटन गाँधीजी की कर्मभूमि साबरमती आश्रम अहमदाबाद से गाँधीजी की जन्मभूमि पोरबंदर तक की प्राकृतिक चिकित्सा आरोग्य यात्र आयोजित की गई। इस कार्यक्रम का उद्घाटन गुजरात के राज्यपाल महामहिम आचार्य देववृत जी ने हरी झण्डी दिखाकर किया।

इस कड़ी में 18 नवंबर को राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी की 150वीं जयंती एवं द्वितीय प्राकृतिक चिकित्सा दिवस 2019 के उपलक्ष्य में 150 स्कूली बच्चे गाँधीजी की वेशभूषा में इंडिया गेट से कॉन्स्टीट्यूशन क्लब तक प्राकृतिक चिकित्सा पदयात्र की। इस पदयात्र का शुभारंभ माननीय श्री संजय धोत्रे, मानव संसाधन राज्यमंत्री, भारत सरकार की उपस्थिति में किया गया। इस अवसर पर कॉन्स्टीट्यूशन क्लब में प्राकृतिक चिकित्सा का विशेष समारोह आयोजित किया गया। जिसका उद्घाटन श्री श्रीपाद नाईक जी, माननीय केन्द्रीय आयुष मंत्री ने किया। केन्द्रीय आयुष मंत्री श्री श्रीपाद नाईक जी ने सभा को संबोधित करते हुए योग दिवस व प्राकृतिक चिकित्सा दिवस से संबधित प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी द्वारा किये गये प्रयासों की सराहना की।

उन्होनें आगे बताया कि नैचुरोपैथी से संबधित बोर्ड का गठन एवं नैचुरोपैथी, योग एडवाइजर के पद का भरा जाना और गोवा व पुणे में 500 करोड़ रु- की लागत का प्राकृतिक चिकित्सा से संबंधित प्रोजेक्ट को आरंभ किया गया। इसी प्रकार के प्रोजेक्ट देश के सभी राज्यों में करने का प्रस्ताव है। साथ ही बोर्ड में हुए नैचुरोपैथी चिकित्सकों का रजिस्ट्रेशन के निर्णय को जल्द ही अंतिम रूप दे दिया जायेगा। देश में 1.25 लाख प्राकृतिक चिकित्सा केन्द्र स्थापित करने का प्रस्ताव है। इस अवसर पर विशेष अतिथि के रूप में श्री प्रताप चंद्र सारंगी माननीय पशुपालन राज्यमंत्री उपस्थित रहे।

कार्यक्रम की अध्यक्षता INO एवं सूर्या फाउण्डेशन के संस्थापक श्री जयप्रकाश अग्रवाल जी ने की। इस अवसर पर विशिष्ट अतिथि के रूप में अहिंसा विश्व भारती के संस्थापक आचार्य लोकेश मुनि जी, पद्मश्री वैद्य राजेश कोटेचा, सचिव, आयुष मंत्रलय, भारत सरकार, डॉ. भोला सिंह, संसद सदस्य, श्री राजू बिष्ट जी, संसद सदस्य, डॉ. जयदीप आर्या, चेयरमैन हरियाणा योग परिषद्, डॉ- ईश्वर बासवारेड्डी, सलाहकार, योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा आयुष मंत्रलय, भारत सरकार डॉ- राघवेन्द्र राव, निदेशक, केन्द्रीय योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा परिषद, आयुष मंत्रलय, भारत सरकार उपस्थिति रहे। इस अवसर पर देश के विभिन्न क्षेत्रें से 700 से अधिक प्रतिभागी भी शामिल हुए।

INO के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ- बिरादर जी ने सबका अभिवादन करते हुए बताया कि 18 नवंबर को प्राकृतिक चिकित्सा दिवस आयुष मंत्रलय द्वारा घोषित करने का आधार क्या था। साथ में मंत्री महोदय से निवेदन किया कि-

  1. प्राकृतिक चिकित्सकों का विधिवत पंजीकरण तीन महीने में हो।
  2. प्राकृतिक चिकित्सकों के लिए मंत्रलय द्वारा आवार्ड की घोषणा हो।
  3. सरकार द्वारा योग पद्यति के अनुरूप प्राकृतिक चिकित्सा के लिये दिया जाने वाला अनुदान आरंभ किया जाये।
  4. राष्ट्रीय प्राकृतिक चिकित्सा संस्थान (NIN) के माध्यम से प्राकृतिक चिकित्सको के लिये एक ओरिएंटेशन ट्रेनिंग प्रोग्राम आरंभ किया जाये।
  5. नैचुरोपैथी पद्यति के मानकीकरण व विकास हेतु संसद में विधेयक पास कराया जाय।
  6. कार्यक्रम के अंतर्गत जयदीप आर्या जी (अध्यक्ष योग परिषद-हरियाणा) ने अपने विचार व्यक्त किया। साथ ही केन्द्रीय राज्य मंत्री श्री प्रताप चन्द्र सारंगी जी ने भी गांधीजी से संबधित चंद शब्दों में अपने विचार व्यक्त किये। डॉ- भोला सिंह व श्री राजू बिष्ट दोनो ही लोकसभा सदस्यों ने अपने उद्गार व्यक्त किये। राजू जी ने विशेष रूप से अनुरोध किया कि इस प्रकार के अगले कार्यक्रम उनके लोकसभा क्षेत्र दार्जिलिंग में भी आयोजित किये जाएं तथा एक प्राकृतिक चित्सालय की स्थापना की जाये।

प्राकृतिक चिकित्सा के प्रति देश भर में जन-जागृति के लिये INO पिछले एक सप्ताह से विभिन्न कार्यक्रम आयोजित कर रहा है। इस संबंध में जानकारी देते हुए इंटरनेशनल नैचुरोपैथी ऑर्गेनाइजेशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ- अनंत बिरादार ने बताया कि विद्यार्थियों में प्राकृतिक चिकित्सा व जीवन शैली के प्रति जागरुक करने के लिये विद्यालयों में ‘कौन बनेगा स्वास्थ्य रक्षक’ (KBSR) प्रतियोगिता का आयोजन किया गया है जिसमें लगभग पाँच लाख विद्यार्थियों के भाग लेने का लक्ष्य है। इस अवसर पर प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के फिट इंडिया अह्वान एवं राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी जी की 150वीं जयंती व प्राकृतिक चिकित्सा दिवस के उपलक्ष्य में रंग भरो प्रतियागिता का भी आयोजन भी किया गया। साथ ही निःशुल्क प्राकृतिक चिकित्सा उपचार एवं परामर्श शिविर, पदयात्र, साइकिल एवं मोटर साइकिल यात्र, नुक्क्ड़ नाटक, वाद-विवाद प्रतियोगिताएं तथा गाँधी बनो प्रतियोगिता आयोजित की गयी।