बाढ़ राहत और बचाव के लिए सरकार तैयार : मनीष शुक्ला

लखनऊ। यूपी में बाढ़ की विभीषिका हर वर्ष आती रहती है। पूर्ववर्ती सरकारें काम के नाम पर केवल टालमटोल करके सरकारी धन का बंदरबांट करती रही हैं। आज प्रदेश में भाजपा सरकार आने के बाद से न केवल विभाग बाढ़ आने से पूर्व ही प्रोएक्टिव है बल्कि अपनी तैयारियों को भी मूर्त रूप दे दिया गया है।

भाजपा प्रवक्ता मनीष शुक्ला ने कहा कि मुख्यमंत्री बाढ़ राहत को लेकर गम्भीर हैं। राहत संबंधी तीन-तीन बैठकों में मुख्यमंत्री स्वयं उपस्थित रहे हैं और पारदर्शिता रखने के लिए राहत सामग्री का वितरण जनप्रतिनिधियों के हाथों से करवाने का आदेश दिया है। सरकार द्वारा बाढ़ से निपटने के लिए जनपदों को ३८० करोड़ रुपये की धनराशि निर्गत की जा चुकी है। पिछली बाढ़ में जिन मानकों के आधार पर सहायता उपलब्ध करवाई गई थी उसी पर इस बार भी काम होगा।

प्रदेश प्रवक्ता ने कहा कि बाढ़ से निपटने के लिए जनपदों में कंट्रोल रूम का संचालन सुचारू रूप से किया जा रहा है। बाढ़ राहत केंद्र स्थापित करने के साथ साथ बाढ़ चौकियों को भी सक्रिय किया गया है। एनडीआरएफ  और एसडीआरएफ  की टीमें भी सक्रिय हैं। नदी कटान को लेकर विशेष सतर्कता बरती जाएंगी। चिकित्सा की स्थिति को दुरुस्त करने के लिए आज स्वयं स्वास्थ्य मंत्री ने बाढ़ प्रभावित जिलों के स्वास्थ्य अधिकारियों के साथ वीडियो कांन्फ्रेंसिंग की है।

चिकित्सा विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों को निर्देशित किया कि वे बाढग़्रस्त क्षेत्रों में दवाओं, एण्टी स्नेक वेनम की पर्याप्त मात्रा में उपलब्धता सुनिश्चित करें और पर्याप्त संख्या में डाक्टरों की तैनाती करे। श्री शुक्ल ने कहा कि भाजपा सरकार के आने से गांव-गरीब और किसान की बेहतरी के लगातार प्रयास किये जा रहे हैं।