‘सबका’ बैलट मांग रहे हैं!

मनोज श्रीवास्‍तव

लखनऊ। लोकसभा 2019 के चुनाव पूर्व उत्तर प्रदेश के प्रमुख विपक्षी दल ईवीएम से मतदान करने के खिलाफ हैं। सपा, बसपा और कांग्रेस (सबका) बैलेट पेपर से चुनाव करने की मांग निर्वाचन आयोग से किये हैं। राज्य में मुख्य विपक्षी दल समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी और बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने भी बैलेट पेपर से मतदान कराने की मांग कर रही है।

केंद्र और प्रदेश में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ता चंद्रमोहन सिंह ने कहा कि भारतीय लोकतंत्र में ईवीएम काअपना सफल योगदान है। आश्चर्य ये है कि जो लोग ईवीएम से चुनाव जीते वही ईवीएम पर सवाल उठा रहे हैं।उन्होंने कहा कि ये हताश और निराश लोगों की जमात है। आज जब देश तकनीक की ओर कदम-ताल कर रहा है तो विपक्ष का ईवीएम पर सवाल उठना उनके मानसिक दिवालियापन के अलावा कुछ नहीं है।

भारतीय जनता पार्टी का मत स्पष्ट है,सत्ता और विपक्ष दोनों को यह स्वीकार करना चाहिए। विधानसभा में नेता विपक्ष और समाजवादी पार्टी के नेता रामगोविंद चौधरी ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी लोकतंत्र का गला घोंट रही है। एक तरफ सारा विपक्ष एक स्वर से ईवीएम से मतदान पर असहमति व्यक्त कर रहा है तो दूसरी तरफ सत्ता के अंहकार में डूबी भाजपा लोकतंत्र का गला घोंटते हुए ईवीएम की वकालत कर रही है।

कांग्रेस नेता वीरेंद्र मदान ने कहा कि मोदी-योगी जान लें की जिस तरह भाजपा लोकतांत्रिक तानाशाही पर आमादा हैं जनता 2019 के लोकसभा चुनाव में उससे ज्यादा ताकत से भाजपा को उलटेगी। निर्वाचन आयोग ने स्पष्ट किया है कि ईवीएम में कोई धांधली नहीं है। अभी तक तो यही तय है कि आगे भी चुनाव ईवीएम से ही सम्पन्न होंगे।manoj

वरिष्‍ठ पत्रकार मनोज श्रीवास्‍तव की रिपोर्ट.