कर्नाटक प्रकरण से गुस्‍साए कांग्रेसियों ने अमित शाह का पुतला फूंका

लखनऊ। कांग्रेस ने कर्नाटक में संविधान की धज्जियां उड़ाते हुए अलोकतांत्रिक तरीके से सरकार बनाए जाने का अरोप लगाते हुए विरोध प्रदर्शन किया। कांग्रेसी भारतीय जनता पार्टी और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के दबाव में राज्यपाल द्वारा भाजपा सरकार को शपथ ग्रहण कराये जाने का आरोप लगाया तथा अमित शाह का पुतला फूंककर विरोध प्रदर्शन किए। 

प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता अमरनाथ अग्रवाल ने कहा कि कर्नाटक में कांग्रेस और जेडीएस के गठबन्धन को पूर्ण बहुमत होने एवं भाजपा की कम सीट होने के बावजूद राज्यपाल द्वारा भाजपा को सरकार बनाने एवं शपथ ग्रहण कराये जाने का निर्णय अलोकतांत्रिक और गैर कानूनी है। कर्नाटक में कांग्रेस पार्टी को 38 प्रतिशत मत एवं भाजपा को 36 प्रतिशत मत मिला है।

श्री अग्रवाल ने कहा कि जिस प्रकार ऐन-केन-प्रकारेण सरकार बनाने और खरीद-फरोख्त को खुलेआम अंजाम दिया गया, जिसे पूरा देश देख रहा है, शर्मनाक है। इसके पूर्व गोवा, मणिपुर एवं मेघालय में कांग्रेस पार्टी के सिंगल लार्जेस्ट पार्टी होने के बावजूद भाजपा के गठबन्धन को सरकार बनाने के लिए वहां के राज्यपालों द्वारा आमंत्रित किया गया।

कहा कि इसके विपरीत कर्नाटक में कांग्रेस और जेडीएस गठबन्धन की पूर्ण बहुमत का संख्याबल होने के बावजूद भाजपा को सरकार बनाने एवं शपथ ग्रहण कराने का निर्णय लेकर भारतीय जनता पार्टी एवं वहां के राज्यपाल ने असंवैधानिक कृत्य किया है। भारतीय जनता पार्टी का लोकतंत्र से विश्वास खत्म हो चुका है, संवैधानिक संस्थाओं का विपक्षियों के विरूद्ध अनैतिक इस्तेमाल करने में लगी हुई है। लेाकतंत्र का गला घोंटकर संविधान की धज्जियां उड़ायी जा रही हैं।

भाजपा के इस अलोकतांत्रिक कदम के विरोध में आज प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय से पूर्व मंत्री रणजीत सिंह जूदेव के नेतृत्व में सैंकड़ों की संख्या में कांग्रेसजनों ने विधानसभा की ओर कूच किया, जहां रास्ते में लालबहादुर शास्त्री मार्ग पर भारी पुलिस बल द्वारा बैरीकेडि़ंग लगाकर कांग्रेसजनों को रोका गया, जहां कांग्रेसजनों एवं पुलिस से काफी देर तक धक्का-मुक्की हुई। कांग्रेसजनों द्वारा भाजपा एवं अमित शाह का पुतला फूंककर विरोध प्रदर्शन किया गया।

श्री अग्रवाल ने बताया कि पुतला दहन एवं विरोध प्रदर्शन में प्रमुख रूप से पूर्व मंत्री रामकृष्ण द्विवेदी, एमएलसी दीपक सिंह, पूर्व मंत्री राजबहादुर, पूर्व विधायक अखिलेश प्रताप सिंह, पूर्व विधायक सतीश अजमानी, डॉ0 आरपी त्रिपाठी, बोधलाल शुक्ला एडवोकेट, सुश्री अनुसुइया शर्मा, वीरेन्द्र मदान, अरूण प्रकाश सिंह, प्रमोद सिंह, अनीस अंसारी पूर्व आईएएस, छोटेलाल चौरसिया, अशोक सिंह, जीशान हैदर, अजय कुमार सिंह अज्जू, मुकेश सिंह चौहान, प्रदीप सिंह, आनन्द प्रताप सिंह, राजेश सिंह काली, डीपी सिंह, सचिन रावत, राधा रावत सहित सैंकड़ों की संख्या में कांग्रेसजन शामिल रहे।