लॉकडाऊन ने छीनी आमदनी, फाइनेंस कंपनी के दबाव ने निगल ली जिंदगी

  •  मार्च के बाद से फाइनेंस कंपनी को नहीं दे पाया था क़िस्त
  • किस्‍त जमा ना हो पाने के तनाव में खुद को मार ली गोली

शाहजहांपुर। यूपी के शाहजहांपुर में  टेंपो मालिक ने गोली मारकर आत्महत्या कर ली। युवक ने टेंपो फाइनेंस कराया था। कोरोना काल मे वह किस्तें जमा नहीं कर पा रहा था। पति की मौत के बाद पत्नी का रो रो कर बुरा हाल है। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

शाहजहांपुर के रोजा थाना क्षेत्र के गांव नोगवा निवासी जयसुख (28 वर्ष) ने एक टेंपो फाइनेंस कंपनी से फाइनेंस कराया था। कोरोना काल में वह टेंपो की किस्‍तें समय से जमा नहीं कर पा रहा था। इस वजह से कुछ दिनों से वह तनाव में चल रहा था।

शुक्रवार रात को जयसुख ने पत्नी पूजा के साथ खाना खाया और कमरे में चला गया। कुछ देर बाद उसने खुद को गोली मार ली। फायर की आवाज सुन कर पत्नी पूजा कमरे में गई, जहां पति को खून में लतपथ देख उसकी चीख निकल गई। वह जोर जोर से रोन लगी।

जयसुख के आत्महत्या की जानकारी मिलते ही गांव के सनसनी फैल। मौके पर भारी भीड़ जमा हो गई। गांव वालों ने घटना की सूचना पुलिस को दी। पुलिस ने गांव पहुंचकर  पूछताछ की तथा शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

क़िस्त जमा ना होने से तनाव में था जयसुख : पूजा ने बताया कि जयसुख ने किस्त पर टेंपो लिया था। काम बढिया चल रहा था। टेंपो की किस्त समय पर जमा हो रहा था। मार्च में लॉकडाउन शुरू होने के बाद आमदनी बंद हो गई, जिससे समय पर क़िस्त जमा नहीं हो पाई।

लॉकडाउन खुलने के बाद भी जयसुख को टेंपो से इतनी आमदनी नहीं हो रहीं थी, जिससे वह टेंपो की किस्त जमा कर पाता। पिछले कुछ दिनों से फाइनेंस कंपनी वाले किस्त जमा करने का लगातार दबाव बना रहे थे। इसके चलते वह तनाव में आ गया था।