शीघ्र ही करीब एक करोड़ युवाओं को मिलेगा टेबलेट

सपने दिखाने में कांग्रेस का कोई जवाब नहीं। प्रियंका गांधी भी वही कर रही हैं। सत्ता में आने पर बच्चियों को स्मार्टफोन और स्कूटी देने के वायदे के जरिए। जिस पार्टी का प्रदेश में कोई संगठन न हो, चुनावों में जिसे बूथ स्तर पर कार्यकर्ताओं के लाले रहते हों, वह सत्ता में आएगी और चुनावी वायदे पूरा करेगी, यह कुछ उसी तरह है जैसे ” ना नौ मन तेल होगा न राधा नाचेगी”

यह बातें उत्तर प्रदेश सरकार के प्रवक्ता और कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका वाड्रा के ट्वीट के जवाब में कही। उन्होंने कहा कि हो सकता है प्रियंका को कांग्रेस के पुराने नारे न याद हों, पर जनता को गरीबी हटाओ, दूरदृष्टि, पक्का इरादा जैसे नारों और उनका हश्र याद है। गरीबी हटाओ का नारा देकर कांग्रेस गरीबों को ही हटाने में लग गई। गरीबों को घर, शौचालय, बिजली,पानी जैसी बुनियादी सुविधाओं से भी वंचित रखी। पक्का इरादा वाला नारा तो भ्र्ष्टाचार के प्रति पक्के इरादे के प्रति प्रतिबद्धता साबित हुई। बेहतर होता कि प्रियंका वाड्रा अपनी घोषणा के अनुरूप कांग्रेस शासित राज्यों राजस्थान, पंजाब, छत्तीसगढ़ से इस नेक काम की शुरुआत कर देतीं। आपके वायदे पर लोगों को भला कैसे यकीन आएगा?

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सरकार कहने के साथ करने में यकीन रखती है। सरकार शीघ्र ही प्रदेश के करीब एक करोड़ युवाओं को टैबलेट या स्मार्ट फोन देने जा रही है। इसकी तैयारियां की जा रही हैं। तब तक सत्ता में आने के लिए बीरबल की तरह खिचड़ी पकाते रहें।

वैसे भी स्वतंत्रता के बाद से कांग्रेस को एक घोषणा करने वाली पार्टी के रूप में जाना जाता रहा है। घोषणाओं के क्रियान्वयन के लिए नहीं।