चुनाव में सपा का वही हश्र होगा जो बिना कमांडर की फौज का होता है

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ चुनाव लड़ने के बाबत स्पष्ट घोषणा कर चुके हैं। अखिलेश अपनी चिंता करें तो बेहतर। वैसे वह पहले ही विधानसभा चुनाव न लड़ने की घोषणा कर मैदान छोड़ कर खुद को रणछोड़दास साबित कर चुके हैं।

यह बातें भजपा सरकार के प्रवक्ता और कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने शनिवार को जारी एक बयान में कही।
उन्होंने कहा कि सपा और भाजपा में जमीन-आसमान का फर्क है। सपा पार्टी नहीं दुकान है जबकि भाजपा दुनिया की सबसे बड़ी लोकतांत्रिक राजनैतिक पार्टी है। इसमें कौन चुनाव लड़ेगा यह संसदीय बोर्ड तय करता है। मुख्यमंत्री भी यह बात कह चुके हैं। अखिलेश तो अपनी दुकान के खुद मालिक हैं। उन्होंने तय कर लिया कि चुनाव नहीं लड़ना है तो नहीं लड़ना है।

इसकी वजह अखिलेश भी जानते हैं और जनता भी। दअरसल वह कहीं से चुनाव लड़ें,उनका हारना तय है। लिहाजा रणछोड़दास की तरह वह पहले ही पीठ दिखा दिए। चुनाव में सपा का वही हाल होना है जो बिना कमांडर के फ़ौज का।