रोजगार मेलों के जरिए चार लाख युवाओं को नौकरी दिलाने में हासिल की सफलता

युवाओं को हुनरमंद व रोजगार दिलाने में प्रदेश सरकार अव्‍वल रही है। खास कर ग्रामीण युवाओं का शहरों की तरफ पलायन रोकने और उनको रोजगार दिलाने में सरकार ने बड़ी कामयाबी हासिल की है। पिछले साढ़े चार साल में पंडित दीनदयाल उपाध्‍याय ग्रामीण योजना के तहत दस लाख से अधिक ग्रामीण युवाओं की स्किल डेवलपमेंट का काम किया गया है। इनमें चार लाख युवाओं को नौकरी दिलाने में भी कामयाबी हासिल की गई।

पिछली सरकारों ने युवाओं का रोजगार दिलाने का दम तो भरा लेकिन किया कुछ नहीं जबकि पिछले चार सालों में करीब 10 लाख युवाओं की स्किल डेवलपमेंट का काम किया गया। युवाओं को रोजगार व स्‍वरोजगार देने के वादे में सरकार खरी उतरी है। पंडित दीनदयाल उपाध्‍याय ग्रामीण योजना के तहत जिन युवकों के अंदर कौशल है और जिस कार्य में वह रूचि रखते हैं। उनके कौशल का विकास कर रोजगार मेलों के जरिए उनको रोजगार दिलाया जाए। इस योजना के जरिए कौशल विकास विभाग ने साल 2017 से अगस्‍त 2021 तक कुल 4,10,858 युवाओं को रोजगार दिलाने का काम किया गया है। वहीं, पिछली सरकार में 2013 से 2017 के बीच 5 साल में महज 1,36,160 युवाओं को ही रोजगार दिलाने का काम किया गया था। युवाओं को प्रशिक्षित कर उनके कौशल विकास में भी प्रदेश सरकार ने पिछले सारे रिकार्ड तोड़ दिए हैं। प्रदेश सरकार ने 2017 से 2021 तक 10 लाख से अधिक युवाओं को प्रशिक्षण देने का काम किया गया जबकि 2013 से 2017 के बीच 4,83,589 युवाओं को प्रशिक्षण देने का काम किया गया।

3400 स्‍टार्टअप प्रोजेक्‍ट यूपी को देंगे रफ्तार

सरकार ने स्‍टार्टअप इंडिया और स्‍टैंडअप इंडिया जैसे प्रोग्रामों के जरिए यूपी में उद्योगों को प्रोत्‍साहित किया है। इस योजना के जरिए 3400 स्‍टार्टअप प्रोजेक्‍ट शुरू हो चुके हैं। इनमें प्रत्‍यक्ष व अप्रत्‍यक्ष रूप से बड़ी संख्‍या में यूपी के युवाओं को रोजगार हासिल हो रहा है।
बड़े औद्योगिक प्रतिष्ठान दे रहे हैं युवाओं को ट्रेनिंग
युवाओं को इंडस्‍ट्री के हिसाब से तैयार करने के लिए कौशल विकास विभाग ने निजी ट्रेनिंग प्रदाताओं के साथ अनुबंद किया है, ताकि युवाओं के हुनर को निखारा जा सकें। इसमें 24 बड़ी औद्योगिक प्रतिष्‍ठानों को भी शामिल किया गया है। साढ़े चार सालों में दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्य योजना डीडीयू-जीकेवाई व अन्‍य योजनाओं के जरिए 735 निजी प्रशिक्षण प्रदाताओं को अनुबंधित किया गया है जबकि पिछली सरकार में युवाओं के स्किल डेवलपमेंट के लिए मात्र 148 प्रशिक्षण प्रदाताओं को अनुबंधित किया गया था। कम समय में प्रदेश सरकार ने पिछली सरकारों की अपेक्षा 5 गुना अधिक संस्‍थाओं प्रशिक्षण प्रदताओं को अनुबंधित करने का काम किया है। ताकि यूपी का युवा हुनरमंद बन सकें।