लखनऊ के डॉक्टरों ने वैश्विक स्तर पर एक बार फिर अपनी काबिलियत का लोहा मनवाया

प्रदेश के दो सबसे बड़े चिकित्सा संस्थानों के 19 चिकित्सा विज्ञानियों का नाम स्टेनफोर्ड यूनिवर्सिटी की लिस्ट में शामिल किया गया है। SGPGI के निदेशक प्रो.आरके धीमन के अलावा संस्थान से जुड़े रहे 12 अन्य सीनियर फैकल्टी शामिल हैं। ब्रेन टीबी पर 5 इंटरनेशनल जर्नल पब्लिश करने वाले KGMU के न्यूरोलॉजी डिपार्टमेंट के हेड डॉ आरके गर्ग इस लिस्ट में सबसे पहले नंबर पर हैं। प्रदेश के इन नायाब डॉक्टर्स के शोध को न केवल दुनिया भर में पहचान मिली है बल्कि विश्व पटल पर तमाम रिसर्च व अनुसंधान में लगातार उन्हें कोट किया गया है।

SGPGI के 13 व KGMU के 6 सीनियर डॉक्टर्स ने बनाई जगह
स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के वरिष्ठ प्रोफेसर डॉ. जॉन ईओनिडिस के नेतृत्व में विशेषज्ञों की टीम ने दुनिया भरके शोधकर्ताओं के नामों का चयन किया। इसमें दो अलग-अलग लिस्ट जारी की गई। पहली प्रतिष्ठित लिस्ट करियर लांग डाटा पर आधारित है। दूसरी लिस्ट वर्ष 2020 में किए गए काम के प्रदर्शन के आधार पर जारी की गई। देश दुनिया के करीब 2 लाख से ज्यादा रिसर्चर के बीच भारत के करीब 3 हजार शोधार्थियों ने इस लिस्ट जगह बनाने में कामयाबी हासिल की है।अहम बात यह है कि इनमें लखनऊ से जुड़े कुल 19 मेडिकल शोधार्थी भी शामिल रहे।

स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी की रैंकिंग हासिल करने वाले SGPGI के शोधार्थी –
इस ग्लोबल रैंकिंग में जगह बनाने वाले चिकित्सकों का मेडिकल के क्षेत्र में एक से बढ़कर अद्वितीय योगदान रहा है। इनमें संजय गांधी पीजीआई के निदेशक और हेपटोलॉजी विभाग के अध्यक्ष डॉ. राधा कृष्ण धीमन, रेडियोडायगनोसिस डिपार्टमेंट के रिटायर्ड फैकल्टी प्रो डॉ राकेश कुमार गुप्ता, न्यूरोलॉजी के रिटायर्ड प्रोफेसर डॉ यूके मिश्रा, मेडिकल जेनेटिक्स की प्रोफेसर डॉ सरिता अग्रवाल, गैस्ट्रो सर्जरी के रिटायर्ड प्रोफेसर डॉ विनय कपूर, गैस्ट्रोएंटरोलॉजी के प्रोफेसर और वर्तमान में जिपमेर पांडिचेरी के डायरेक्टर डॉ राकेश अग्रवाल, गैस्ट्रोएंटरोलॉजी के विभागाध्यक्ष डॉ उदय चंद्र घोषाल, न्यूरोलॉजी की प्रोफेसर जयंती कालिता, पीडियाट्रिक गैस्ट्रोएंटरोलॉजी के विभागाध्यक्ष डॉ उज्जल पोद्दार, एंडोक्राइन सर्जरी के प्रोफेसर और वर्तमान मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ गौरव अग्रवाल, नेफ्रोलॉजी के विभागाध्यक्ष डॉ नारायण प्रसाद, मॉलिक्यूलर मेडिसिन एंड बायोटेक्नोलॉजी के एसोसिएट प्रोफ़ेसर डॉ आलोक कुमार और एंडोक्रिनोलॉजी के एसोसिएट प्रोफ़ेसर डॉ रोहित सिन्हा भी शामिल रहे।

इस लिस्ट में जगह बनाने वाले चिकित्सा विश्वविद्यालय के शोधार्थियों में KGMU के न्यूरोलॉजी विभाग के हेड डॉ.आरके गर्ग के अलावा पीडियाट्रिक विभाग की प्रभारी डॉ. शैली अवस्थी, माइक्रो बायोलॉजी विभाग की एचओडी डॉ. अमिता जैन, मानसिक रोग विभाग के डॉ. सुजीत कार और माइक्रोबायोलॉजी विभाग के पूर्व अध्यक्ष डॉ. यूसी चतुर्वेदी का नाम भी शामिल है।
एक साल के भीतर ब्रेन टीबी पर 5 जर्नल कर चुके है प्रकाशित

स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी की रैंकिंग में सबसे आगे प्रो आरके गर्ग को दोनों ही लिस्टिंग यानी कैरियर लांग व 2020 में किए गए कामों के आधार पर जगह हासिल का पाएं है।प्रो. गर्ग ने भास्कर को बताया कि बीते एक वर्ष इस विषय पर 5 इंटरनेशनल जर्नल पब्लिश हो चुके है। इसके अलावा अब तक कुल 60 से ज्यादा इंटरनल जर्नल भी पब्लिश हुए है। प्रो.गर्ग इस कामयाबी को बेहद सरलता में मरीजों के प्रति डेडिकेट करने की बात कहते है।