गोरखपुर नगर निगम की ओर से लगाए जाने वाले दीपावली मेले का नाम बदलकर ‘विकास दीपोत्सव’ कर दिया गया

गोरखपुर नगर निगम की ओर से लगाए जाने वाले दीपावली मेले का नाम बदलकर ‘विकास दीपोत्सव’ कर दिया गया है। इसका शुभारंभ 28 अक्टूबर को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कर सकते हैं। इस तरह का मेला पूरे प्रदेश में लगाया जा रहा है। बुधवार को अचानक से दीवाली मेला का नाम बदलकर ‘विकास दीपोत्सव’ कर दिया गया। नगर ​आयुक्त अविनाश सिंह ने बताया कि इसे लेकर तैयारियां जोरों पर चल रही हैं। जबकि डीएम विजय किरन आनंद ने नगर आयुक्त एवं अन्य अधिकारियों से इसे लेकर चर्चा भी की है। हालांकि मुख्यमंत्री के कार्यक्रम की अभी आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है।
नगर निगम परिसर में 4 नवंबर तक लगेगा मेला

नगर निगम परिसर में 28 अक्टूबर से 4 नवंबर तक दीपावली मेला की जगह अब ‘विकास दीपोत्सव’ का आयोजन होगा। पहले दिन शाम तक स्टाल लगाने का काम पूरा कर लेना होगा और मुख्यमंत्री के हाथों 29 अक्टूबर को इसका शुभारंभ कराने की तैयारी है। मेले में एक जिला एक उत्पाद (ओडीओपी) में शामिल टेराकोटा एवं रेडीमेड गारमेंट से जुड़े उत्पादों के स्टाल लगाए जाएंगे।
सांस्कृतिक संध्या का भी होगा आयोजन

इसके साथ ही स्थानीय स्तर पर तैयार मिट्टी के दीये, लक्ष्मी-गणेश की प्रतिमा, गोबर के दीये एवं प्रतिमा, स्वयं सहायता समूहों की ओर से तैयार विभिन्न उत्पादों के लिए स्टाल मुहैया कराए जाएंगे। दीपावली मेले के दौरान शाम को सांस्कृतिक संध्या का आयोजन करने की भी तैयारी है। सोमवार को जिलाधिकारी ने नगर आयुक्त के साथ बैठक कर कार्यक्रम की रूपरेखा के बारे में जानकारी ली है।
स्थानीय उत्पादों को बढ़ावा देने की तैयारी

दीपावली मेले में स्थानीय उत्पादों को बढ़ावा दिया जाएगा। कुशीनगर में अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट का लोकार्पण करने आए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी दीपावली में स्थानीय उत्पाद की खरीदने की अपील की थी। स्थानीय उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए इस मेले के माध्यम से शिल्पकारों को मंच प्रदान किया जाएगा। यह कार्यक्रम कचहरी क्लब में आयोजित करने की तैयारी थी लेकिन पहले से ही वहां पटाखा की दुकानें लगाई जा रही हैं, जिसके कारण यह मेला नगर निगम परिसर में ही लगाने की तैयारी चल रही है।