यूपी की BJP सरकार का विजन प्लान 4.5 साल में 30 बार आए, हर बजट में अयोध्या के लिए नए ऐलान हुए

यूपी की BJP सरकार का विजन प्लान अयोध्या को वैश्विक स्तर पर लाने का है। 3,116 करोड़ के प्रोजेक्ट पर काम शुरू हो चुका है। 8 हजार करोड़ की योजनाओं की DPR और विजन डॉक्यूमेंट तैयार हैं। इसी विजन को पूरा करने के लिए योगी आदित्यनाथ सीएम बनने के बाद 30 बार अयोध्या आए। हालांकि, सीएम बनने से पहले भी वह महीने में 2 बार अयोध्या जरूर आते थे। अपनी सोच को साकार करने के लिए 2017 में पहली बार अयोध्या में दीपोत्सव मना। अब 3 नवंबर को 5वां दीपोत्सव दुनिया देखेगी।
1100 एकड़ में नव्य अयोध्या होगी डेवलप

अयोध्या के डेवलपमेंट को लेकर करीब 20 हजार करोड़ की योजनाएं तैयार हैं। इनमें 1100 एकड़ में नव्य अयोध्या तैयार होनी है। अयोध्या के सभी एंट्री गेट पर नागर शैली से सजावट हो रही है। शास्त्रों में भगवान विष्णु के आठ चक्र पर अयोध्या के 9 द्वार होने का जिक्र मिलता है। अभी अयोध्या में 6 द्वार हैं। इन द्वार पर भक्तों के रुकने के लिए धर्मशाला और इलेक्ट्रिक वाहन से आने की व्यवस्था की जा रही है।
दीपोत्सव में हर बार टूटे रिकॉर्ड

सीएम योगी आदित्यनाथ ने वर्ष 2017 में पहली बार दीपोत्सव का आयोजन किया था। दीपोत्सव की शुरुआत 51 हजार दीयों से हुई थी। साल 2019 में 4,04,226 मिट्टी के दीयों, साल 2020 में 6,06,569 मिट्टी के दीयों को सरयू के तट पर जलाया गया। इस बार सीएम योगी आदित्यनाथ ने पहले ही घोषणा की थी कि अयोध्या में इस बार के दीपोत्सव में 12 लाख मिट्टी के दीये जलाए जाएंगे। सरयू तट पर रामायण की गाथा को भी अमर बनाया जाएगा। साथ ही, ‘लेजर लाइट’ में रामायण का ‘हाई टेक’ तरीके से शो दिखाया जाएगा।
अयोध्या के योगी मॉडल पर एक्सपर्ट की राय

अवध विश्वविद्यालय के MTA के विभागाध्यक्ष प्रो. एमपी सिंह का कहना है कि साढ़े चार साल में सीएम योगी खुद डेवलपमेंट को मॉनिटर कर रहे हैं। अयोध्या को धार्मिक टूरिज्म और अध्यात्म के रास्ते पर आगे बढ़ाया है।
व्यापार अधिकार मंच के संयोजक सुशील जायसवाल के मुताबिक अयोध्या में हो रहा विकास अभी जमीन पर नहीं उतरा है। चूंकि विश्व में अयोध्या की चर्चा होती है। इसलिए डेवलपमेंट भी उसी स्तर के होने चाहिए।

वरिष्ठ पत्रकार प्रभार शंकर का कहना है कि साढ़े चार साल में सिर्फ इवेंट जैसे पिक्चर ही सामने आए हैं। दीपोत्सव एक दिन का इवेंट है। इससे आगे बढ़ते हुए सरकार को जमीन पर अयोध्या के विकास पर तेजी से काम करना चाहिए।