लखनऊ दहलाने आये पीएफआई के दो सदस्य गिरफ्तार!

मनोज श्रीवास्तव

: कई नेताओं को भी निशाना बनाना चाहते थे : दोनों की पहचानकमांडर बदरुद्दीन और फिरोज के रूप में हुई : लखनऊ। यूपी पुलिस और यूपी एसटीएफ ने लखनऊ से दो पीएफआई सदस्यों को गिरफ्तार किया है। उनके पास से भारी मात्रा में विस्फोटक सामान और हथियार भी बरामद हुए हैं। पुलिस सूत्रों के अनुसार गिरफ्तार किए गए दोनों आरोपी बड़ी साजिश को अंजाम देने की तैयारी में आए थे। यूपी पुलिस और प्रयागराज एसटीएफ ने लखनऊ के गुडंबा थाना क्षेत्र से दोनों पीएफआई के सदस्यों को गिरफ्तार किया है। एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार ने प्रेसवार्ता करके गिरफ्तार किए गए दोनों पीएफआई सदस्यों के बारे में जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि दोनों के पास से भारी मात्रा में आधुनिक हथियार बरामद हुये हैं। पूछ तांछ में दोनों ने जो जानकारी दी उसे सुन कर पुलिस अधिकारियों के होश उड़ गये। दोनों ने कुबूल किया है कि वह उत्तर प्रदेश के महत्वपूर्ण नेताओ को निशाना बनाने वाले थे। पकड़े गए अपराधियो का बांग्लादेश कनेक्शन भी मिला है। केरल से आये पीएफआई के इन दोनों खतरनाक सदस्यों को गुडम्बा क्षेत्र से गिरफ्तार किया गया। पकड़े गये अभियुक्तों में पहला पीएफआई का मिलिट्री कमांडर बदरुद्दीन है तथा दूसरे का नाम है फिरोज है

आपको बता दें कि हाथरस केस में भी पीएफआई पर दंगा भड़काने के कई आरोप लग चुके हैं। मामले में पीएफआई राउफ शरीफ को गिरफ्तार करके उनके खिलाफ कार्रवाई भी चल रही है। शरीफ को 12 दिसंबर 2020 को उस वक़्त गिरफ्तार किया गया था जब वह देश छोड़कर दुबई जाने की कोशिश कर रहा था। उसे केरल में एयरपोर्ट से गिरफ्तार किया गया था तभी से वह जेल में था। जेल से जमानत पर रिहा होते ही एसटीएफ ने उसे अपनी हिरासत में ले लिया था। पहले हाथरस दंगों की साजिश में पीपुल्स फ्रंट आफ इंडिया (पीएफआई) और उसके स्टूडेंट विंग कैंपस फ्रंट ऑफ इंडिया (सीएफआई) से जुड़े चार अभियुक्तों को गिरफ्तार किया जा चुका है। इसमें सिद्दीक कप्पन, अतिकुर्रहमान, मसूद अहमद और मोहम्मद आलम शामिल हैं। मथुरा पुलिस ने इन सभी चारों को एक कार से उस वक़्त गिरफ्तार किया था जब वे गैंगरेप पीड़िता के परिवार से मिलने के बहाने हाथरस जा रहे थे। उनके पास से आपत्तिजनक साहित्य भी बरामद हुआ था। इस मामले की जांच ईडी भी कर रहा है।